तेजप्रताप की मांझी से हो गयी ‘डील’, मांझी ने कह दिया- आप आगे बढ़े मैं आपके साथ हूं…

लाइव सिटीज,सेंट्रल डेस्क: बिहार की सियासत कब किस करवट बैठगी, इसका कयास लगाना बड़ा ही मुश्किल होता है. यहां का सियासी समीकरण कब बन और बिगड़ जाए, इसका कोई अंदाजा नहीं लगा सकता है. राजनीतिक दृष्टिकोण बिहार एक अनोखा प्रदेश है. जहां पर सियासी समीकरण बनने और बिगड़ने में देर नहीं लगती. कभी एक दूसरे के धूर विरोधी गहरे दोस्त बन जाते हैं तो कुछ ही दिनों के बाद दोस्ती टूट जाती है, और फिर से एक दूसरे के धूर विरोधी बन जाते हैं. क्या बिहार में इसबार भी कुछ ऐसा होने जा रहा है?.

दरअसल आज बिहार के सियासी गलियारे में कुछ ऐसा ही देखने को मिला, जो कई तरह से संकेत दे रहे हैं. महागठबंधन से नाता तोड़ एनडीए में शामिल मांझी पर एक बार लालू यादव डोरे डालने लगे हैं!. तेजप्रताप अचानक उनके आवास पहुंच गए, दोनों नेताओं के बीच बंद कमरे में घंटों बातें हुई. कहा तो यह भी जा रहा है कि तेजप्रताप के माध्यम से मांझी और लालू के बीच फोन पर बातें भी हुई है, हालांकि इस प्रकार के कयास लगाए जा रहे हैं. इसकी पुष्टि नहीं हुई है.

मुलाकात को तेजप्रताप ने औपचारिक बताते हुए कहा कि मांझी जी हमलोगों के अभिभावक है. मैं इधर से गुजर रहा था तो मिलने चला आया. बहुत दिनों से मुलाकात नहीं हुई थी. मैंने इनसे मिलकर गैर राजनीतिक युवा संगठन बनाने का जिक्र किया. इस संगठन में बिहार के युवा आगे आएंगे और जितने में बुजुर्ग राजनीतिज्ञ होंगे एक मार्गदर्शन के रूप में युवाओं को गाइड करेंगे. मांझी जी ने सहयोग करने की सहमति दी है.

उधर मांझी ने भी इस मुलाकात को औपचारिक बताया. उन्होंने कहा कि आज लालू यादव का जन्मदिन है. तेजप्रताप से मुलाकात में किसी तरह की राजनीतिक बातें नहीं हुई हैं. यह केवल शिष्टाचार मुलाकत है. राजनीति में ऐसी मुलाकातें होती रहनी चाहिए. इस मुलाकात के सियासी मायने न निकाले जाएं. वहीं एनडीए में रहने के सवाल पर उन्होंने कहा कि बाहर जाने का तो सवाल ही नहीं है. तेजप्रताप की ओर से ऑफर मिलने की बात को भी मांझी ने सिर से नकार दिया.