अखिलेश से मीटिंग के बाद तेजस्वी के तीखे बोल, यूपी-बिहार वाले बनाएंगे अगला पीएम

तेजस्वी यादव और अखिलेश यादव

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : लोकसभा चुनाव से पहले बिहार की राजनीति के साथ – साथ देश की राजनीति भी गरमा गई है. बिहार में जहां RLSP ने महागठबंधन का दामन थामा लिया है तो वहीं उतर प्रदेश में SP-BSP का एक नया गठबंधन सामने आया है. इस गठन के बाद बिहार विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष और राजद नेता तेजस्वी यादव UP के दौरे पर हैं. वहां उन्होंने अखिलेश यदाव और मायावती से मुलाकात की. सोमवार यानी 14 जनवरी को अखिलेश यादव से मिलने के बाद तेजस्वी ने कहा कि यूपी और बिहार में भाजपा का सूपड़ा साफ हो गया है, वह अब एक सीट भी नहीं जीत पाएगी. उन्होंने कहा कि ये दो प्रदेश यूपी और बिहार ही हैं, जो यह तय करेंगे कि केंद्र में किसकी सत्ता होगी.

तेजस्वी यादव ने कहा, ‘देश पर खतरा मंडरा रहा है. ये लोग नागपुरिया कानून, आरएसएस का एजेंडा लागू करना चाहते हैं. मोहन भागवत पहले भी काम कर रहे थे कि आरक्षण को खत्म कर देना चाहिए या फिर इसे आर्थिक आधार पर दिया जाए. यह संविधान को खत्म करने जैसा काम है. ये लोग अपना एजेंडा लागू करना चाहते हैं.’

यह भी पढ़ें – संभल जाएं बच्चे ! अब पांचवीं व आठवीं में फेल करने का कानून हो गया लागू

उन्होंने आगे कहा, ‘भाजपा का यूपी और बिहार में सफाया हो चुका है. उपचुनाव में भी देखने को मिला, जहां सीएम और डिप्टी सीएम भी अपनी सीट नहीं बचा पाए. उस दौरान कांग्रेस भी अलग चुनाव लड़ी थी, लेकिन उसके बाद भी लोगों का अच्छा-खासा समर्थन मिला था. आने वाले चुनाव में भी यह गठबंधन काम करेगा और पूरे देश में यह जाएगा.’

नेता प्रतिपक्ष ने कहा, ‘अखिलेश जी और मायावती जी ने नागपुरिया कानून लागू होने से देश को बचाने की जो कोशिश की है, उसके लिए लोग उन्हें मानेंगे और बधाई देंगे. भाजपा ने यूपी में भी गठबंधन को तोड़ने की कोशिश की. अब सीबीआई एजेंसी नहीं रहीं, ये एनडीए के सहयोगी दल जैसी हो गई हैं. यह उन्हें फायदा पहुंचाने के लिए काम कर रही हैं. लालू यादव जी से नरेंद्र मोदी खतरा महसूस कर रहे थे, इसलिए ही लालू जी अभी जेल में हैं.’

About परमबीर सिंह 792 Articles
राजनीति, क्राइम और खेलकूद....

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*