तेजस्वी बोले – नीतीश जी ने गुणवत्तापूर्ण शिक्षा समाप्त कर दी है, लेकिन फिर भी बहार है

tejaswi-yadav
tejaswi-yadav

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर बिहार की राजनीति गरमा गई है. विपक्ष पूरे दमखम के साथ सरकार पर हमला कर रही है. इस दौर नेता प्रतिपक्ष और राजद नेता तेजस्वी यादव ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर जोरदार हमला किया है. पटना हाईकोर्ट ने शिक्षा व्यवस्था को लेकर नीतीश सरकार को फटकार लगाया था. जिस पर तेजस्वी यादव ने चुटकी लेते हुए कहा कि नीतीश जी ने गुणवत्तापूर्ण शिक्षा समाप्त कर दी है लेकिन फिर भी बहार है. है ना चाचा.

राजद सुप्रीमों के छोटे पुत्र तेजस्वी यादव ने ट्वीट करते हुए कहा कि पटना हाईकोर्ट ने नीतीश सरकार को कड़ी फटकार लगाते हुए कहा कि बिहार में शिक्षा के नाम पर क्यों मजाक बना रखा है. सरकार स्कूलों को बंद ही क्यों नहीं कर देती. शिक्षकों के बिना बच्चे पढ़ने कहां जाएंगे. नीतीश जी ने गुणवत्तापूर्ण शिक्षा समाप्त कर दी है लेकिन फिर भी बहार है. है ना चाचा?

आपको बता दें कि एक तरफ रालोसपा सुप्रीमो ,केन्द्रीय मंत्री उपेन्द्र कुशवाहा शिक्षा व्यवस्था को लेकर लगातार नीतीश सरकार पर हमलावर हैं वहीं दूसरी तरफ हाईस्कूलों में शिक्षकों की कमी और एक मिडिल स्कूल के अपग्रेडेशन के मामले को लेकर पटना हाईकोर्ट ने भी राज्य सरकार को कड़ी फटकार लगाई. जिसके बाद तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर चुटकी लिया है.

20 दिसंबर को होगी अगली सुनवाई

गुरुवार को हाईकोर्ट ने नीतीश सरकार को फटकार लगाते हुए कहा कि  शिक्षा के नाम पर क्यों मजाक बना रखा है? सरकार स्कूलों को बंद ही क्यों नहीं कर देती? हाई स्कूल में शिक्षकों के बिना बच्चे पढ़ने कहां जाएंगे? कोर्ट ने इस मामले पर सरकार से जवाब भी तलब किया है. अगली सुनवाई 20 दिसंबर को होगी. राज्य सरकार के सुस्त रवैये पर भी पटना हाईकोर्ट ने नाराजगी जताई है.

गौरतलब हो कि गुरुवार को ही उपेन्द्र कुशवाहा ने कहा था कि बिहार के सरकारी स्कूलों में शिक्षा व्यवस्था नीतीश कुमार ने चौपट कर दिया है. योग्य शिक्षकों के हवाले सारे स्कूल हैं. जो योग्य शिक्षक हैं, उन्हें रसोइया और ठेकेदार बना दिया है. शिक्षक पढ़ाई की जगह खिचड़ी बना रहे हैं और बिल्डिंग बना रहे हैं.

About परमबीर सिंह 205 Articles
राजनीति, क्राइम और खेलकूद....

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*