Posco Act में संशोधन को कैबिनेट की मंजूरी, 12 साल तक की बच्ची से रेप पर मौत की सजा

लाइव सिटीज डेस्क : बच्चियों से रेप के दोषियों को मौत की सजा देने के प्रस्ताव पर चर्चा के लिए शनिवार को प्रधानमंत्री आवास पर केंद्रीय कैबिनेट की बैठक हुई. कैबिनेट की बैठक में ‘प्रोटेक्शन ऑफ चिल्ड्रेन फ्रॉम सेक्सुअल ऑफेंस’ यानी पॉक्सो एक्ट में संशोधन को मंजूरी मिल गई है. इससे 12 साल से कम उम्र की बच्चियों से रेप के दोषियों को मौत की सजा दिए जाने का रास्ता साफ हो जाएगा.

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश के उन्नाव और जम्मू कश्मीर के कठुआ में नाबालिग बच्चियों से दुष्कर्म की घटनाओं को लेकर देशभर में गुस्से के माहौल की पृष्ठभूमि में सरकार ‘बच्चों को यौन अपराधों से संरक्षण अधिनियम’ (पॉक्सो) में संशोधन के लिए अध्यादेश लाने की योजना बनाई.

यह भी पढ़ें : कठुआ मामले पर ज्यादा हो रही है पब्लिसिटी, पहले भी होते रहे हैं रेप : हेमा मालिनी

12 साल से कम ऊम्र की बच्चियों से रेप पर मिलेगी मौत, आज सरकार लाएगी अध्यादेश

प्रस्ताव के अनुसार 12 साल तक बच्ची के साथ दुष्कर्म के दोषी को भी मौत की सजा सुनाई जा सकती है. पॉक्सो कानून के वर्तमान प्रावधानों के अनुसार इस जघन्य अपराध के लिए अधिकतम सजा उम्रकैद है. न्यूनतम सजा सात साल की जेल है.  उन्नाव और कठुआ की घटनाओं पर अपनी पहली टिप्पणी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले सप्ताह कहा था कि किसी अपराधी को छोड़ा नहीं जाएगा और बेटियों को न्याय मिलेगा.

गौरतलब है कि दिसंबर 2012 में हुए निर्भया मामले के बाद जब कानून में संशोधन किए गए तो बलात्कार के बाद महिला की मृत्यु हो जाने या उसके मृतप्राय होने के मामले में एक अध्यादेश के माध्यम से मौत की सजा का प्रावधान शामिल किया गया जो बाद में आपराधिक कानून संशोधन अधिनियम बन गया.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*