झारखंड के किसानों को मिला पीएम किसान योजना की दूसरी किस्त

रांची, लाइव सिटीज : प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत रांची के खेलगांव हरिवंश टाना भगत इंडोर स्टेडियम में किसान सम्मान समारोह कार्यक्रम का आयोजन किया गया. कार्यक्रम के माध्यम से मुख्यमंत्री रघुवर दास ने लाखों किसानों के खाते में सम्मान राशि ट्रांसफर की. वही मुख्यमंत्री ने किसानों के साथ खाना भी खाया.

झारखंड के 3 लाख 98 हजार 991 किसानों के खाते में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की दूसरी किस्त सोमवार को दी गई. इस योजना के साथ झारखंड के 35 लाख किसानों को लाभ दिया गया. किसानों के खाते में अगले तीन माह के भीतर राशि ट्रांसफर कर दी गई.

आपको बता दें कि किसान सम्मान समारोह झारखंड के अलग-अलग जिलों में मनाया गया. जहां हर क्षेत्र के विधायकों ने हर जिलों में किसानों को सम्मानित करने का काम किया. वहीं 20 सूत्री के उपाध्यक्ष के द्वारा गढ़वा में किसानों को सम्मानित किया गया.

कार्यक्रम के दौरान पीएम किसान सम्मान निधि योजना भारत सरकार केसीईओ विवेक अग्रवाल ने मुख्यमंत्री रघुवर दास से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सीधे बात कर झारखंड में लाभुक किसानों की सूची दी. वही मुख्यमंत्री ने ऑनलाइ बटन दावा कर किसानों के खाते में पैसे ट्रांसफर किये.

किसानों के खाते में पैसे आते हैं उनके मोबाइल पर मैसेज आना शुरु हो गया जिसे देख किसानों के चेहरे मुस्कुराहट से खिल उठे. मौके पर मुख्यमंत्री ने किसानों खेती में सुविधा देने के लिए घोषणा करते हुए कहा कि उन्नत खेती के लिए झारखंड के किसानों को 70% तक सब्सिडी दी जाएगी. किसान सम्मान समारोह में बड़ी संख्या में झारखंड के अलग-अलग हिस्सों से किसान पहुंचे हैं. इसमें चयनित किसानों के बीच मुख्यमंत्री के द्वारा खाद और बीज का भी वितरण किया गया. कार्यक्रम के बाद झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास किसानों के साथ इस स्टेडियम में भोजन भी करते नजर आए.

बता दें कि नरेंद्र मोदी सरकार ने इस साल चुनाव की घोषणा से पहले अपने अंतरिम बजट के दौरान इस योजना की घोषणा की थी. इसके बाद 24 फरवरी को किसानों के खाते में इस योजना की पहली किस्त डीबीटी के जरिए भेजी गई थी. वहीं, इस कार्यक्रम में झारखंड के कई गणमान्य लोग शामिल रहे.

About परमबीर सिंह 1512 Articles
राजनीति, क्राइम और खेलकूद....

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*