Big Breaking : पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सोमनाथ चटर्जी का निधन, पड़ा था दिल का दौरा

सोमनाथ चटर्जी का निधन, सोमनाथ चटर्जी, सीपीएम, सांसद, ममता बनर्जी, Somnath Chatterjee, Mamata Banerjee, lok sabha, cpm, कांग्रेस

लाइव सिटीज डेस्क : पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सोमनाथ चटर्जी का निधन हो गया.  रविवार को दिल का हल्का दौरा पड़ा, जिसके बाद उनकी स्थिति और बिगड़ गयी. एक निजी अस्पताल के एक चिकित्सक ने बताया कि गुर्दे संबंधी समस्या से जूझ रहे चटर्जी को मंगलवार को गंभीर स्थिति में अस्पताल में भर्ती कराया गया था. उसके बाद से लगातार उनकी तबीयत खराब  रही. सोमवार को उन्होंने सुबह 8:15 बजे अस्पताल में अंतिम सांस ली. वह किडनी की बीमारी के चलते कोलकाता के एक अस्पताल में भर्ती थे, जहां उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था.

पिछले 40 दिनों से चटर्जी का उपचार चल रहा

पिछले महीने पूर्व लोकसभा अध्यक्ष को मस्तिष्काघात के बाद अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा था. अधिकारी ने कहा, “पिछले 40 दिनों से चटर्जी का उपचार चल रहा है. स्वास्थ्य में सुधार के संकेत मिलने के बाद उन्हें अस्पताल से छुट्टी मिली थी लेकिन मंगलवार को हालत बिगड़ने के बाद उन्हें फिर से अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा था.”  89 साल के सोमनाथ चटर्जी का डायलिसिस हो रहा था तभी उन्हें माइल्ड हार्ट अटैक हुआ. उसके बाद उन्हें ICCU में भर्ती कराया था.

1968 में शुरू हुआ राजनीतिक करियर, 10 बार बने सांसद 

बता दें कि पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सोमनाथ चटर्जी मशहूर वकील निर्मल चंद्र चटर्जी के बेटे हैं. निर्मल चंद्र अखिल भारतीय हिंदू महासभा के संस्थापक भी थे. सोमनाथ चटर्जी ने सीपीएम के साथ राजनीतिक करियर की शुरुआत 1968 में की और 2008 तक इस पार्टी से जुड़े रहे. 1971 में वह पहली बार सांसद चुने गए और इसके बाद राजनीति में कभी पीछे मुड़कर नहीं देखे. चटर्जी 10 बार लोकसभा सदस्य के रूप में चुने गए.

दस बार लोकसभा के सदस्य रहे चटर्जी माकपा की केंद्रीय समिति के सदस्य रहे. वह 2004 से 2009 के बीच लोकसभा के अध्यक्ष रहे थे. हालांकि उनकी पार्टी के संप्रग-1 सरकार से समर्थन वापस लेने के बाद लोकसभा अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने से उनके इनकार के बाद 2008 में उन्हें माकपा से निष्कासित कर दिया गया था.

यह भी पढ़ें : स्मृति शेष : 14 साल की उम्र में ही करुणानिधि आ गये थे राजनीति में, पहली बार 1969 में बने सीएम

About Razia Ansari 1935 Articles
बोल की लब आज़ाद हैं तेरे, बोल जबां अब तक तेरी है

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*