रवींद्र गायकवाड़ के ‘चप्पल कांड’ के बाद अब ‘नो फ्लाइ लिस्ट’ जारी करेगी सरकार

airline

लाइव सिटीज डेस्क : शिवसेना सांसद रवींद्र गायकवाड़ की ओर से एयर इंडिया के मैनेजर से बदसलूकी से सीख लेते हुए सरकार “नो फ्लाई लिस्‍ट” लेकर आई है. इसके तहत हवाई सफर के दौरान खराब बर्ताव करने वाले यात्रियों को 2 साल या उससे ज्यादा समय तक हवाई सफर से रोका जा सकता है.

सिविल एविएशन मिनिस्‍टर अशोक गजपति राजू की मौजूदगी में शुक्रवार को हुई प्रेस कॉन्‍फ्रेंस के दौरान एविएशन सेक्रेटरी आरएन चौबे ने बताया कि फ्लाइट में गलत बर्ताव को 3 अलग-अलग कैटेगरी में डिफाइन किया जाएगा और इसी के हिसाब से सजा का भी प्रावधान होगा.

airline

 3 तरह के अपराध

अगर आप अपने हावभाव या बर्ताव से फ्लाइट में यात्रियों या क्रू मेंबर के काम में बाधा पहुंचाते हैं तो आप लेवल-1 के अपराधी होंगे. धक्‍का देने, हाथापाई या सेक्‍सुअल हरासमेंट की स्थिति में आप पर लेवल 2 का चार्ज लगेगा. ऐसी गतिविधि जिससे किसी की लाइफ को खतरा हो तो आप पर लेवल-3 का चार्ज लगेगा.

 हर आरोप में अलग-अलग सजा

चौबे ने बताया कि तीनों चार्ज में आप पर अलग-अलग सजा मिलेगी. लेवल-1 के अपराध में आप को 3 महीने के लिए सफर से रोका जा सकता है.  लेवल-2 के अपराध में आपको 2 से 6 महीने के लिए हवाई सफर से रोका जा सकता है. तीसरे लेवल के अपराध में आपको 2 साल के लिए सफर से रोका जा सकता है.

 अभी तक नहीं थे नियम

अगर आप फ्लाइट या एयरपोर्ट पर किसी तरह की परेशानी खड़ी करते हैं या आपकी गतिविधि असामान्‍य पाई जाती है तो आपको नो फ्लाई लिस्‍ट में शामिल कर दिया जाएगा. अभी तक जो नियम थे उसके मुताबिक, अगर कोई व्‍यक्ति चालक दल के सदस्‍यों और साथ यात्रा करने वाले लोगों के साथ अभद्रता करता है तो उसे एयरलाइंस कंपनियां सिर्फ प्‍लेन में चढ़ने से रोक सकती हैं. नागरिक विमानन मंत्री अशोक गजपति राजू की ओर से बृहस्‍पतिवार को नए प्रस्‍ताव का अनाउंसमेंट किया गया. रवींद्र गायगवाड को दोबारा प्‍लेन में सफर की अनुमति राजू की ओर से ही दी गई थी.

 DGCAसे विचार-विमर्श के बाद लगेगा बैन

नए प्रस्‍ताव के बाद किसी भी व्‍यक्ति को नो फ्लाई लिस्‍ट में डालने से पहले एयरलाइंस कंपनियां एविएशन रेग्‍युलेटर DGCA से विचार विमर्श करेंगी. इसके लिए DGCA का अप्रूलवल जरूरी भी होगा. एक तरीके से किसी को बैन करने का अधिकार DGCA के पास ही होगा. अगर किसी व्‍यक्ति को एक बार नो फ्लाई लिस्‍ट में शामिल कर दिया गया जो फिर वह न तो टिकट बुक कर पाएगा न ही खरीद पाएगा. मैजेजर से गलत बर्ताव के बाद एयर इंडिया ने कई बार गायगवाड़ का टिकट कैंसिल कर दिया था, हालां‍कि बाद में उन्‍हें इसकी अनुमति दे दी गई.

 अपील का होगा अधिकार

नए नियम में किसी पैसेंजर को एक निश्चित समय के लिए बैन किया जाएगा, हालांकि वह इसके खिलाफ अपील कर सकेगा. एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, नो फ्लाई लिस्‍ट को पब्लिक किया जाएगा. एयरलाइंस को इस बात की इजाजत होगी कि वह टिकट खरीदने के दौरान किसी यात्री से उसका आधार नंबर पूछ सकें. अगर वह व्यक्ति नो फ्लाई लिस्‍ट में होगा तो कंपनियों को तुरंत पता चल जाएगा.

यह भी पढ़ें – AirAsia का नया ऑफर, मात्र 1498 रुपये में भरें उड़ान
रेल किराया में 10% तक हो सकती है बढ़ोतरी , प्रभु लेंगे फैसला !

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*