दिल्ली में पुलिस मेडल से सम्मानित हुए हैं बिहार के NDRF कमांडेंट विजय सिन्हा

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (NDRF) के 9वीं बटालियन, बिहटा (पटना) के कमांडेंट विजय सिन्हा को बल में सराहनीय सेवा के लिए पुलिस मेडल से सम्मानित किया गया है. उन्हें यह सम्मान बीते 19 जनवरी को बल के 13वें स्थापना दिवस के अवसर पर मिला है. इस मौके पर विज्ञान भवन, नई दिल्ली में आयोजित एक भव्य कार्यक्रम में मुख्य अतिथि राजीव जैन, निदेशक, इंटेलिजेंस ब्यूरो (IB) ने कमान्डेंट विजय सिन्हा को बल में सराहनीय सेवा के पुलिस मेडल तथा प्रशस्ति पत्र से सम्मानित किया.

इस अवसर पर NDRF के महानिदेशक संजय कुमार, राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (NDMA) के सदस्य आर के जैन तथा अन्य विशिष्ट अधिकारी मौजूद थे. मालूम हो कि NDRF ने शुक्रवार को अपना 13वां स्थापना दिवस मनाया है. इस मौके पर राजीव जैन ने आपदा प्रबंधन के क्षेत्र में एनडीआरएफ की भूमिका के लिए बल की सराहना करते हुए कहा कि पिछले कई वर्षों से इस बल ने बहादुरी के साथ वि‍विध चुनौतियों का मुकाबला करते हुए और उच्‍च स्‍तर के पेशेवर रवैये, संकल्‍प तथा कड़ी मेहनत का प्रदर्शन करते हुए मुसीबत में फंसे लोगों की जान बचाने का सराहनीय कार्य किया है.

गौरतलब है कि पिछले वर्ष NDRF द्वारा देश में आपदाओं से घिरे 4000 लोगों की जानें बचाने में अहम भूमिका निभाई गई है. यह बल पिछले कई सालों से देश के लोगों की अपेक्षाओं पर खरा उतरा है. NDRF अब आपदा मोचन एवं प्रबंधन के क्षेत्र में भारत सरकार के सर्वाधिक महत्‍वपूर्ण संस्‍थान में तब्‍दील हो चुका है और राष्‍ट्रीय एवं अंतरराष्‍ट्रीय मंचों पर कई सम्‍मान हासिल कर चुका है. 2017 में एनडीआरएफ ने बाढ़ों, भू-स्‍खलनों, नौकाओं के डूबने, रेल दुर्घटनाओं, इ्मारतों को ढहने जैसी दुर्घटनाओं से संबंधित 447 ऑपरेशन किए. इस क्रम में 4000 लोगों की जानें बचाने के साथ ही एक लाख लोगों को सुरक्षित स्‍थानों पर भी पहुंचाया गया है.

NDRF-NSDC में करार

इस मौके पर NDRF और कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय के तहत आने वाले NSDC के बीच एक करार हुआ जिसके तहत NSDC अब NDRF के बच्चों को रोजगार दिलाने के लिए उन्हें प्रशिक्षण देगा. NSDC के मुख्य कार्यक्रम अधिकारी विशाल शर्मा ने इस करार की जानकारी देते हुए बताया कि शुरूआत में ओडिशा के कटक और तमिलनाडु में एक -एक प्रशिक्षण केंद्र खोेेले जाएंगे. इन केंद्रों में NDRF के जवानों के बच्चों के लिए 200 से 550 घंटे का प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा जिससे उन्हें रोजगार के अवसर मिल सकेंगे.

About Amit Jaiswal 849 Articles
पटना में क्राइम की हर खबरों पर होती है पैनी नजर

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*