ओवैसी की मांग : इंडियन मुस्लिम को ‘पाकिस्तानी’ बोलने पर हो 3 साल की जेल

लाइव सिटीज डेस्क : भारतीय मुस्लिम के खिलाफ नफरत की भावना रखने वाले पर कार्रवाई की मांग की गई है. यह मांग ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने केंद्र की मोदी सरकार से की है ओवैसी ने कहा है कि मोदी सरकार ऐसा कानून बनाए, जिसमें भारतीय मुस्लिमों को ‘पाकिस्‍तानी’ कहे जाने को दंडनीय अपराध माना जाए और ऐसा करने वालों को कम से कम 3 साल जेल की सजा हो.

असदुद्दीन ओवैसी ने राष्ट्रपति के अभिभाषण के बाद धन्यवाद प्रस्ताव पर लोकसभा में यह मांग रखी. ओवैसी ने कहा कि कानूनन इस तरह के अपराध के लिए तीन साल तक कारावास की सजा देनी चाहिए. इस मांग के बाद ओवैसी ने मोदी सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि हम ऐसा कानून चाहते हैं लेकिन मोदी सरकार ऐसा कोई बिल नहीं लाएगी. बता दें कि एआईएमआईएम प्रमुख ने ट्रिपल तलाक बिल को ‘महिला विरोधी’ बताया था.

बता दें कि देश में अक्सर सोशल मीडिया या अन्य माध्यम के जरिये भारतीय मुसलमान के लिए पाकिस्तानी जैसे शब्दों का प्रयोग किया जाता है. कई लोग अपने भाषण में भी अनुचित शब्दों का प्रयोग कर देते हैं. इसी मुद्दे को ओवैसी ने संसद में उठाते हुए कहा कि भारतीय मुस्लिमों को पाकिस्तानी कहने वालों पर लगाम लगाया जाए. इसके लिए ही ओवैसी ने संसद में कानून बनाने की मांग की है. साथ ही ३ साल की सजा का प्रावधान भी रखने को कहा है.

मालूम हो कि इससे पहले तीन तलाक पर प्रस्तावित कानून का कड़ा विरोध करते हुए एमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने बीते शनिवार को ‘शरीयत’ की रक्षा के लिए भारतीय मुसलमानों से एक होने का आह्वान किया था. उन्होंने आश्चर्य प्रकट किया कि सरकार कैसे संसद में विधेयक ला सकती है। उन्‍होंने नरेंद्र मोदी सरकार से पूछा कि क्या सरकार उन महिलाओं को आर्थिक सहायता मुहैया कराएगी, जिनके पतियों को तीन साल के लिए जेल भेज दिया जाएगा. असदुद्दीन ओवैसी ने मोदी सरकार से पूछे तीखे सवाल, मानसरोवर यात्रियों की सब्सिडी कब बंद करेगी सरकार? 

ओवैसी न्यू जहाँ ३ तलाक बिल पर बोला वहीँ उन्होंने हिन्दू महिलाओं पर भी अपनी बात रखी. उन्होंने ‘हिंदू बहनों’ की अनदेखी करने पर पीएम मोदी की आलोचना की. ओवैसी ने कहा कि ’20 लाख हिंदू महिलाओं को उनके पतियों ने छोड़ दिया है’, क्या मोदी इनके बचाव में भी आएंगे?

About Ranjeet Jha 2861 Articles
I am Ranjeet Jha (पत्रकार)