नोटबंदी के दो साल हुए पूरे, राहुल गांधी ने बताया ‘काला-धन सफेद करने की एक धूर्त स्कीम’

Rahul-Gandhi
Rahul-Gandhi

लाइव सिटीज.सेन्ट्रल डेस्क: 8 नंवंबर 2016 को देश के प्रधानमंत्री मोदी के एक एनाउंसमेंट के बाद देश भर में नोटबंदी लागू हो गई. रात बारह बजे के बाद से ही 500 और 1000 के नोट चलन से बाहर हो गए. बैंको के बाहर लोगों की लंबी कतारे लग गई. सरकार ने कहा कि ये कदम कालेधन और भ्ररूटाचार के खिलाफ उठाया गया. आज इसके दो साल पूरे होने के साथ ही देश की सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी कांग्रेस भी दूसरी ओर ब्लैक डे मना रही है.

कांग्रेस मना रही है ब्लैक डे

नोटबंदी के दो साल पूरे होने को लेकर कांग्रेस पार्टी ब्लैक डे मना रही है. कांग्रेस प्रेसिडेंट राहुल गांधी ने पहले ही नोटबंदी और जीएसटी को मोदी सरकार द्वारा किया गया घोटाला बताया था. वही राहुल गांधी ट्वीटर के माध्यम से भी लगातार बीजेपी पर हमलावर हैं. आज भी कांग्रेस राष्ट्रीय अध्यक्ष राहल गांधी ने ट्वीटर के जरीए मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए 2016 में हुई नोटबंदी को एक सोची समझी साजिश बताया है.

राहुल गांधी ने अपने ट्वीट में लिखा — ‘नोटबंदी सोच-समझ कर किया गया एक क्रूर षड्यंत्र था. यह घोटाला प्रधानमंत्री के सूट-बूट वाले मित्रों का काला-धन सफेद करने की एक धूर्त स्कीम थी. इस कांड में कुछ भी मासूम नहीं था.इसका कोई भी दूसरा अर्थ निकालना राष्ट्र की समझ का अपमान है.

कांग्रेस ने अपनी अधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर भी कुछ ऐसा ही लिखा है. कांग्रेस पार्टी ने अपने ट्विटर पर ट्वीट करते हुए लिखा कि दो साल पहले प्रधानमंत्री मोदी ने आपके पैसे आपसे छीनकर और हमारे देश की अर्थव्यवस्था को थेट पहुचाते हुए अपने क्रोनी कैप्टिलिस्ट दोस्तो को फायदा पहुंचाया था. कांगेस ने लिखा कि जैसे जैसे उस काली रात के जक्ष्म हरे हो रहे हैं हम इसके खिलाफ और मजबूती से खढ़े होंगे. कांग्रेस ने अपने ट्वीट के साथ राहल गांधी की नोटबंदी के दौरान की तस्वीरों और बयानों वाली फोटों भी पास्ट की है.

आपको बता दे कि एक ओर जहां केन्द्र की मोदी सरकार नोटबंदी को बड़ा और कारगर फैसला बताते हुए इसे भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए वरदान बता रही है. बीजेपी आज देश में नोटबंदी के 2 साल होने को लेकर इसकी सालगीरा मना रही है. वही देश की विपक्षी पार्टियां ब्लैक डे मना रहीं हैं.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*