सीवान में मंदिर से 200 साल पुरानी अष्टधातु की मूर्तियां चोरी, पुजारी हिरासत में

सीवान मंदिर
सीवान मंदिर से अष्मूटधातु की मूर्र्तितियों की चोरी
  • राम-जानकी और लक्ष्मण की अष्टधातु की मूर्तियों का वजन था डेढ़ क्विंटल
  • 10-12 साल से मंदिर की देखभाल करते हैं पुजारी हरिओम पाठक

लाइव सिटीज, सीवान : शनिवार की रात सीवान जिले के गोरेयाकोठी थाना क्षेत्र के सैदपुरा तिवारी टोला स्थित मंदिर से चोरों ने 200 साल से भी अधिक की राम-सीता व लक्ष्मणजी की अष्टधातु की मूर्तियों चोरी कर लीं. ग्रामीणों को घटना की जानकारी रविवार की सुबह उस समय हुयी जब गांव के राजकिशोर तिवारी मंदिर में पूजा करने पहुंचे. इसी दौरान उन्होंने देखा कि मंदिर के दरवाजे पर लगा ताला टूटा था व मूर्तियां गायब थीं. जब उन्होंने शोर मचाया तो ग्रामीणों की भीड़ जुट गई जबकि पुजारी का किसी को पता नहीं था. घटना की रात पुजारी मंदिर में मौजूद नहीं थे.

पुजारी बोले – रात में मलमलिया में था, अभी बसंतपुर में हैं
मूर्तियों की चोरी की घटना की सूचना मिलते ही गोरेयाकोठी पुलिस छानबीन में जुट गई. पुलिस ने पुजारी से बात की तो उन्होंने बताया कि वे रात में भगवानपुर थाना क्षेत्र के मलमलिया में थे. अभी बाइक से बसंतपुर में हैं. पुजारी के पहुंचने पर पुलिस ने पूछताछ के लिए उन्हें हिरासत में ले लिया. ग्रामीणों ने बताया कि मंदिर के पुजारी बेगूसराय के हरिओम पाठक 10-12 वर्ष से मंदिर की देखरेख करते हैं.



सैदपुरा और पहलेजपुर गांव के बॉर्डर पर जाकर रुक जा रहा था खोजी कुत्ता
पुलिस को काफी खोजबीन के बाद भी कुछ खास सुराग हाथ नहीं लगा. घटनास्थल पर डॉग स्क्वायड को भी बुलाया गया. लेकिन, खोजी कुत्ता सैदपुरा और पहलेजपुर गांव के बॉर्डर पर जाकर रुक जा रहा था. जिससे यह अंदाजा लगाया जा रहा है कि चोर इसी गांव के रास्ते भाग निकले. इधर, घटना की सूचना मिलते ही आसपास के गांव के ग्रामीण काफी संख्या में एकत्रित हो गए और पुलिस के प्रति नाराजगी जताई. ग्रामीणों के अनुसार मंदिर का निर्माण करीब सौ वर्ष पहले गांव के ही रामेश्वर दास ने कराया था. इसमें रामजानकी और लक्ष्मण की अष्टधातु की करोड़ों की मूर्ति स्थापित की गई थी, जिसका वजन डेढ़ क्विंटल था.