दिल्ली बीजेपी के नए अध्यक्ष बने मनोज तिवारी

लाइवसिटीज डेस्क : भाजपा के सबसे लोकप्रिय पूर्वांचली चेहरा, भोजपुरी गायक-अभिनेता से नेता बने मनोज तिवारी को बीजेपी ने दिल्ली का प्रदेश अध्यक्ष बनाया है. मनोज तिवारी का नाम पार्टी के नगर निगम चुनाव के लिए तैयार दिल्ली भाजपा के अध्यक्ष पद के लिए दौड़ में सबसे आगे के रूप में उभरा था. और आज उनके नाम पर मुहर लग गई.



मनोज तिवारी को दिल्ली में खासी पैठ रखने वाले पूर्वांचली मतदाताओं के बीच काफी लोकप्रियता हासिल है. लोकसभा चुनाव में जीत के रूप में प्रारंभिक सफलता उन्हें भाजपा की दिल्ली की राजनीति का एक महत्वपूर्ण चेहरा बना दिया है. पार्टी सूत्रों का कहना है कि वैसे तो मनोज तिवारी के नाम पर सहमति तीनों एमसीडी के 13 वॉर्डों में हुए उपचुनावों से पहले ही बन गई थी. लेकिन बीच में उप चुनावों की वजह से प्रदेश अध्यक्ष को बदलने के मसले को कुछ समय के लिए टाल दिया गया था.

manoj-tiwari345

जाने-माने फिल्म अभिनेता मनोज तिवारी को दिल्ली भाजपा का अध्यक्ष बनाए जाने के पीछे पार्टी का एक खास मकसद है. भाजपा दिल्ली में कांग्रेस के सेंट्रल लेवल के नेता अजय माकन और आप के केजरीवाल की टक्कर में किसी लोकप्रिय शख्स को अध्यक्ष बनाना चाहती है.

मनोज तिवारी पूर्वांचल से हैं. एक अनुमान के मुताबिक दिल्ली में पूर्वांचल के लोगों की तादाद 40 फीसदी के आसपास है. दिल्ली की कई सीटों पर पूर्वांचल के वोटर दूसरे वोटर्स से ज्यादा हैं. खास बात यह है कि पूर्वांचल के लोगों की ज्यादा संख्या अनऑथराइज्ड कॉलोनियों में है.

 भाजपा को तिवारी के आने से फायदा मिलने की उम्मीद है. सूत्रों ने बताया कि एमसीडी उपचुनाव के नतीजों में भी भाजपा का मत प्रतिशत बढ़ने के बावजूद वह सीटों में तब्दील नहीं हो पाया था. इससे पार्टी आलाकमान खुश नहीं है और वह चाहते हैं कि बदलाव हो, जिससे कि पार्टी कार्यकर्ताओं में नया जोश भरा जा सके.

मनोज तिवारी दिल्ली की नॉर्थ-ईस्ट सीट से सांसद हैं. और पूर्वांचलियों के बीच खासे लोकप्रिय भी हैं. दूसरी ओर, दिल्ली में दिन-प्रतिदिन पूर्वांचलियों का बोलबाला बढ़ता जा रहा है. इस वक्त दिल्ली में करीब 50 फीसदी वोटर पूर्वांचली हैं. इसलिए इस तरह के तमाम समीकरणों को देखते हुए पार्टी आलाकमान का मानना था कि प्रदेश अध्यक्ष के लिए सांसद तिवारी ही उचित रहेंगे. जिसके बाद आज उनके नाम की घोषणा कर दी गई.

यह भी पढ़ें-कोहरे ने रोकी राजधानी की रफ्तार, हादसे भी दिखे