बिस्मिल्ला खां की शहनाइयां चोरी

पटना/वाराणसीः बिहार (डुमरांव) में जन्मे भारत रत्न बिस्मिल्ला खां की चांदी की पांच शहनाइयां चोरी हो गईं. चोरी बनारस में उनके पुत्र क़ाज़िम हुसैन के चाहमामा-दालमंडी वाले घर से हुई है. एफआइआर दर्ज करा दी गई है.


चोरी की गई शहनाइयों में वह शहनाई भी शामिल है जिसे बिस्मिल्ला खा मोहर्रम के खास दिनों पर बजाते थे. अमूमन वे इस महीने की पांचवीं और सातवीं तारीखों पर यह शहनाई बजाते थे और इस आंसुओं का नजराना कहते थे.



khan2356
चोर सम्मान में मिली चांदी की की तश्तरियां और लाखों के जेवर भी घर से उड़ा ले गए. काज़िम मूल रूप से हड़हा सराय के रहने वाले हैं. उन्होंने बताया कि उनके पास ही ‘उस्ताद’ की धरोहर के रूप में पांचों शहनाई व अन्य सामान था. हाल ही में उन्होंने दालमंडी स्थित चाहमामा मोहल्ले में नया मकान लिया है. इसी मकान में उस्ताद की धरोहर रखी हुई थी.

काजिम ने बताया कि पूरे परिवार के साथ 30 नवम्बर को वह हड़हा सराय के पुराने मकान में गये थे। शनिवार रात करीब नौ बजे लौट कर आये तो घर की कुंडी टूटी हुई मिली. अंदर घर में सारा सामान बिखरा हुआ था। नाजिम ने बताया कि चोरों ने दीवान में रखी चांदी की शहनाई, घर की महिलाओं के जेवरात सहित लाखों रुपये का सामान साफ कर दिया.

परिवार ने बताया कि चोर उस्ताद की खास शहनाई भी उठा ले गये। उसे वह सिर्फ मोहर्रम की पांचवीं और सातवीं तारीख को विशेष रूप से निकालते थे। इसी से वह आंसुओं का नजराना पेश करते थे। इसके अलावा पूर्व प्रधानमंत्री नरसिंहा राव, पूर्व केन्द्रीय मंत्री कपिल सिब्बल, लालूप्रसाद यादव और उस्ताद के शिष्य भागर्व वर्मा ने एक-एक शहनाई तोहफे में दी थी.

यह भी पढ़ें-आप ‘दीदी’ जैसी अच्छी लगती हैं, ‘दादा’ न बनें : केसी त्यागी