लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: इन दिनों सड़क हादसों में बहुत वृद्धि हुई है. हालिया वाकिया बिहार के नवादा जिले का बताया जा रहा है. ई रिक्शा का यातायात बहुत बढ़ गया है. ऑटो से ज्यादा सड़क पर ई-रिक्शा ही दिखाई दे रहा है. इसी कड़ी में नवादा के नगर के मेन रोड प्रजातंत्र चौक के पास एक चार साल की बच्ची गिर गयी. इसके बाद उस बच्ची की उसी ई-रिक्शे से दबकर मौत हो गयी. नगर के मेन रोड प्रजातंत्र चौक के पास यह घटना हुई. इस घटना के बाद आम नागरिकों ने ई-रिक्शा और चालक दोनों को पकड़ कर पुलिस के हवाले कर दिया.

घटना के संबध में बताया जाता है कि जिले के गोविंदपुर थाना क्षेत्र के रटनी गांव निवासी श्रवण राजवंशी अपनी पत्नी और दो बेटियों सहित पत्नी के भाई और बहन के साथ इटखोला कमाने के लिए घर से निकले थे. सभी लोग पटना के दानापुर स्थित गौरैया स्थान इटखोला पर काम करने जा रहे थे.

मृत बच्ची की मां कंचन देवी ने बताया कि गांव से नवादा शहर पहुंचे और ई-रिक्शे पर सवार होकर पूरे परिवार के साथ पटना स्टैंड जा रहे थे. इसी बीच, प्रजातंत्र चौक के समीप ई-रिक्शा चालक ने दो पैसेंजर को उतारा. उसके बाद तेज रफ्तार में गाड़ी को आगे बढ़ा दिया, जिससे प्रजातंत्र चौक पर बने गड्ढे से गाड़ी असंतुलित हो गयी और अबोध बच्ची गिर गयी, जिस पर ई-रिक्शा चढ़ गया. लोगों की मदद से बच्ची को सदर अस्पताल लाया गया, लेकिन तब तक उसकी मौत हो चुकी थी.

बच्ची का पोस्टमार्टम कराकर परिजनों को पुलिस ने सौंप दिया. बताया जाता है कि मृतक बच्ची के माता-पिता को दो बेटियां ही हैं. इनमें बड़ी बेटी शिवानी की मौत हो गयी तथा दूसरी बच्ची एक साल की है. इस घटना ने जिला प्रशासन की कुव्यवस्था की पोल खोल दी है. प्रभात खबर ने पूर्व में ही प्रजातंत्र चौक के गड्ढे को लेकर खबर प्रकाशित कर चुका है. इसके बावजूद जिला प्रशासन ने इस पर ध्यान नहीं दिया और मंगलवार को उसी गड्ढे के कारण एक अबोध बच्ची की जान चली गयी.