लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: पटना विश्वविद्यालय छात्र संघ चुनाव में छात्र जदयू के अध्यक्ष पद के उम्मीदवार मोहित प्रकाश की जीत पर जाप युवा परिषद् के प्रदेश प्रवक्ता रजनीश तिवारी ने कहा कि इस छात्र संघ चुनाव में छात्र लोकतंत्र की हार हुई. श्री तिवारी ने कहा कि पी.यू में संघर्षवादी समाजवादी सोच की हार हुई. सत्ता धारियों की जीत एक मैनेजमेंट के तहत हुआ.

यह छात्र संघ चुनाव मैनेजमेंट पैसा पावर और सत्ता की जीत है. पिछली बार की तरह फिर से पी.यू की हार हुई है. यहां के विचारों की हार हुई है. सामाजिक न्याय की हार हुई है, नैतिकता की हार हुई है.

इस छात्र संघ चुनाव में JACP एक विकल्प देने का काम किया था छात्रों की शैक्षणिक बदलाव मूलभूत सुविधाओं से वंचित व्यवस्था में परिवर्तन एवं छात्र हित में लाभकारी कार्यों की दिशा में कार्य करने को लेकर अपने प्रत्याशी उतारने का काम हमलोगों ने किया लेकिन धन पशु के आगे हमलोग हार गए. यहां अपने सत्ता और प्रशासनिक शक्ति का एहसास नीतीश कुमार जी ने करवाने का काम बिहार की जनता एवं पटना विश्वविद्यालय के छात्रों के बीच किए हैं.

आचार संहिता लागू होने के बाद भी जदयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर घंटो तक कुलपति से चर्चा करते हैं और आंतरिक सांठगांठ को लेकर यह चुनाव जितने का काम किए हैं. यह जीत, जीत नहीं पीयू की हार है.

उन्होंने कहा कि जन अधिकार छात्र परिषद और जन अधिकार पार्टी छात्र हित की लड़ाई शुरू से ही अनवरत लड़ती रही है और आगे भी इस लड़ाई को लड़ते रहेंगे. छात्र हितों के लिये हमारा संघर्ष अनवरत जारी रहेगा. संघर्ष का साथ नहीं देना और संघर्षवादीयों में एकता का अभाव समाज संस्थान और राजनीति के लिये सबसे दुखद पहलू है.