STF को मिली बड़ी सफलता, सोहेल हिंगोरा किडनैपिंग मामले में 4 साल बाद सोनू हुआ अरेस्ट

पटना : 4 साल पुराने किडनैपिंग के एक बड़े मामले में अरेस्टिंग हुई है. दमन से किडनैप किए गए गुजरात के बड़े बिजनेसमैन सोहेल हिंगोरा के केस में सोनू कुमार सिंह को अरेस्ट किया गया है. जो पिछले 4 सालों से फरार चल रहा था.

लंबे वक्त से बिहार पुलिस को इसकी तलाश थी. लेकिन अब ये बड़ी सफलता बिहार एसटीएफ के हाथ लगी है. जब से किडनैपिंग केस में फरार चल रहे अपराधियों को पकड़ने की जिम्मेवारी बिहार एसटीएफ को मिली थी, तब से ही वर्कआउट शुरू कर दिया गया था. इसकी गिरफ्तारी का वारंट भी काफी पहले से ही जारी था. लेकिन ये शातिर किडनैपर लगातार पुलिस को चकमा दे रहा था.

SONU
STF की गिरफ्त में आरोपी सोनू

बिहार एसटीएफ के एसपी निलेश कुमार के अनुसार सोनू रहने वाला तो छपरा में नया गांव के चतुरपुर का है. लेकिन फरार होने के दौरान इसने झारखंड में अपना ठिकाना बना रखा था. रांची में ये साउथ रेलवे कॉलोनी इलाके में रह रहा था. इसके बिहार आने की खबर मिली थी. हर मूवमेंट पर एसटीएफ अपनी नजर बनाए हुए थी. जैसे ही हाजीपुर स्टेशन पर ये पहुंचा, वहां से एसटीएफ ने इसे अपने कब्जे में ले लिया.

सोहेल हिंगोरा के किडनैपिंग का एफआईआर छपरा के नया गांव थाना में दर्ज है. इस एफआईआर में एसटीएफ के हत्थे चढ़ा सोनू कुमार सिंह नामजद अपराधी है. गौरतलब है कि अपराधियों ने 29 अक्टूबर 2013 को बिजनेसमैन हनीफ हिंगोरा के बेटे सोहेल हिंगोरा को दमन से किडनैप किया था. इसके बाद उसे बिहार लेकर आ गए. छपरा के चतुरपुर गांव में रंजीत के घर में छिपा कर रखा गया था. रंजीत के पिता झारखंड पुलिस में एएसआई थे. अपराधियों के चंगुल से बेटे की रिहाई के बाद ​हनीफ हिंगोरा ने 25 करोड़ रुपए की फिरौती देने की बात कही थी.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*