बोले नंदकिशोर – युवराज क्या जाने किसानों की उन्नति का हाल, UPA सरकार में हुई किसानों की हकमारी

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: बिहार के पथ निर्माण मंत्री नन्द किशोर यादव ने कहा जिन्हें चावल दाल का भाव नहीं मालूम वे क्या जाने किसानों की आर्थिक उन्नति का हाल. कांगेसी शासन काल में किसानों की हकमारी कर उनका शोषण करने वाले नेताओं के मुख से किसानों की बात सुन आश्चर्य होता है. श्री यादव ने आज यहां कांग्रेस के युवराज राहुल गांधी को आडे हाथ लेते हुए कहा कि चांदी के चम्मच से खाना शुरु करने वाले का खेत खलिहान से तो कभी वास्ता रहा नहीं, वे क्या जाने फसलों की रोपनी, कटनी और उसके बाजार का हाल.

पिछले साढ़े चार साल के एनडीए शासन काल में किसानों के हित और उनके कल्याण के जितने कार्य हुए, कांग्रेसी राज में कभी नहीं हुआ था. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी मन की बात में किसानों से भी सीधा संवाद करते हैं. क्या  कांग्रेस या यूपीए के किसी मंत्री या प्रधानमंत्री ने किसानों से सीधा सम्पर्क साधा है? कांग्रेसी नेताओं ने सिर्फ मंच पर भाषण देने के अलावा देश के किसानों के लिए किया ही क्या?

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के देखरेख वाली केन्द्र सरकार सन् 2022 तक किसानों की आमदनी को दोगुना करने की दिश में निरन्तर अग्रसर हो रही है. इस लक्ष्य की प्राप्ति के लिए कई योजनाएं और नीतियां बनी है जिससे किसानों के जीवन स्तर में सुधार हो तथा बीमा, मिट्टी की गुणवक्ता, सिचाई जैसे मुद्दो का सामाधान किया जा सके.

किसानों को उनकी फसल की लागत का कम-से-कम डेढ़ गुना दाम दिलाने का वायदा पूरा करने की दिशा में केन्द्र सरकार खरीफ 2018 -19 की अधिसूचित फसलों के लिए न्यूनतम सर्मथन मूल्य को लागत का डेढ़ गुना या उस से ज्यादा बढाने का निर्णय केन्द्र सरकार का ऐतिहासिक फैसला है.

श्री यादव ने कहा कि 6 हजार करोड़ के आवंटन से प्रधानमंत्री किसान सम्पदा योजना शुरु की गई है जिससे एग्रो प्रोसेसिंग क्लस्टरों के फारवर्ड एवं बैकवर्ड लिंकेज पर काम कर फूड प्रोसेसिंग क्षमताओं का विकास किया जा रहा हैं इससे जहां 20 लाख किसान लाभान्वित हो रहें हैं वहीं साढे पांच लाख लोगों के लिए रोजगार के अवसर भी प्राप्त हो रहें हैं. किसानों को वरगलाने वाले  कांग्रेसी नेताओं के लिए यह एक सबक है. दरअसल किसानों के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के प्रति निरन्तर बड़ते रुझान से यूपीए में छटपटाहट है और इसी बौखलाहट की अभिव्यक्ति का प्रकटीकरण कांग्रेस के युवराज राहुल गांधी का भाषण है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*