VIRAL : क्या फिर लीक हुए BSSC इंटर लेवल एग्जाम के क्वेश्चन, यहां जानिए जवाब

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : बिहार में इंटर स्तरीय संयुक्त प्रारंभिक प्रतियोगिता परीक्षा के आयोजन का आज शनिवार को पहला दिन है. आज शाम से ही इस परीक्षा के प्रश्नपत्र सोशल मीडिया पर वायरल होने लगे थे. कहा जाने लगा कि बिहार कर्मचारी चयन आयोग द्वारा ली गई इस परीक्षा के पेपर भी लीक हो गए हैं. यह परीक्षा शनिवार 8 दिसंबर से शुरू हुई है और सोमवार 10 दिसंबर तक होगी. तीन दिनों तक दोनों पालियों में कुल छह शिफ्ट में यह परीक्षा पूरे बिहार में ली जा रही है. BSSC ने यह व्यवस्था बड़ी संख्या में आये आवेदनों के फलस्वरूप परीक्षा को पूर्णतः कदाचारमुक्त कराने के लिए की है.

शनिवार शाम से वायरल हुए इन कथित ‘लीक’ प्रश्नपत्रों को पहली शिफ्ट का बताया जा रहा है. लाइव सिटीज ने इसे लेकर जब पड़ताल करनी शुरू की तो बात कुछ और ही निकल कर सामने आई. मुजफ्फरपुर स्थित एक सेंटर से परीक्षा देकर पटना लौटे एक परीक्षार्थी ने इस बात की तस्दीक तो की कि वायरल हुए प्रश्नपत्र आज शनिवार के पहली शिफ्ट के ही हैं. लेकिन उन्होंने यह भी कहा कि सेंटर पर मौजूद सुरक्षा व्यवस्था को देखते हुए यह कहना बहुत मुश्किल है कि ये प्रश्नपत्र लीक हुए हैं.

https://youtu.be/Q4mPeKTfQs8

वजह बताते हुए उन्होंने कहा कि सेंटर पर निगरानी वाकई कड़ी थी. एग्जाम सेंटर के करीब 200 मीटर के दायरे में मोबाइल नेटवर्क को ख़त्म कर देने वाले जैमर लगे हुए थे. परीक्षार्थियों को भी काफी कड़ी जांच के बाद ही अंदर जाने दिए गया था.

तो आखिर ये प्रश्नपत्र लीक कैसे हुए? इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि ऐसा हो सकता है कि ये किसी शरारती तत्व का काम हो. किसी ऐसे परीक्षार्थी का, जो प्रश्नपत्र को जमा करने के बजाये अपने साथ लेकर एग्जाम हॉल से बाहर निकलने में सफल हो गया. उन्होंने कहा कि इस बार परीक्षा के प्रश्न भी उच्चस्तरीय थे. इन्हें वही विद्यार्थी हल कर पायेंगे, जिन्होंने गहराई से पढ़ाई की होगी. इस वजह से यह काम किसी ऐसे परीक्षार्थी का हो सकता है, जिसका पेपर खराब गया हो और जिसे पास होने की कोई उम्मीद न हो.

लेकिन फिर भी यह सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल तो है ही. इस सवाल से उक्त परीक्षार्थी ने भी इत्तेफाक जताते हुए कहा कि यह एक प्रशासनिक चूक का मामला तो बनता ही है. अगर प्रश्नपत्र लीक हुए हैं तो इसकी जांच गंभीरता से की जानी चाहिए. अगर किसी ने अफवाह उड़ायी है या गलत तरीके से सोशल मीडिया पर पेपर वायरल किया है तो उसके खिलाफ भी कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए.

बताते चलें कि परीक्षा के दौरान परीक्षार्थियों को दिए गए प्रश्नपत्र व आंसर के लिए दिए गए ओएमआर शीट को परीक्षा समाप्ति के बाद वीक्षक द्वारा कलम सहित वापस ले लिया गया था. ऐसे में प्रश्नपत्र वायरल होना कहीं न कहीं परीक्षा प्रबंधन व्यवस्था में गड़बड़ी की आशंका को जन्म देता है. आगे देखना यह है कि बिहार कर्मचारी चयन आयोग इस मामले में क्या फैसला लेती है.