CIMP के प्रोफेसर मॉस्को में स्टार्टअप इनोवेशन और उद्यमिता मिशन में बिहार का करेंगे प्रतिनिधित्व

प्रोफेसर अनुज शर्मा रूस के मास्को और कज़ान शहर में होने वाले इस प्रतिष्ठित मिशन में सूबे का प्रतिनिधित्व करेगे

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क :  मास्को में भारतीय दूतावास, भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई), रूस के आर्थिक विकास मंत्रालय, भारत के वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय और मॉस्को स्टेट यूनिवर्सिटी (एमएसयू) के संयुक्त तत्वाधान में 10 से 14 दिसंबर, 2018 को रूसमें एक इनोवेशन और स्टार्टअप मिशन का आयोजन किया जा रहा है.

चंद्रगुप्त इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट पटना (सीआईएमपी) के संकाय सदस्य प्रोफेसर अनुज शर्मा रूस के मास्को और कज़ान शहर में होने वाले इस प्रतिष्ठित मिशन में सूबे का प्रतिनिधित्व करेगे. प्रोफेसर शर्मा इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट इंदौर के अलुमनी होने के साथ बिहार सरकार की आईटी स्टार्टअप स्क्रीनिंग कमेटी के सक्रिय सदस्य हैं. इस मिशन का उद्देश्य एक सहयोगी पारिस्थिति की तंत्र बनाना है जहां संस्थान, अभिनव कंपनियां, स्टार्ट-अपस, वेंचर फंडस, दोनों देशों के इनक्यूबेटरस साझेदारी, स्रोत निधि, बाजार बनाने और उनके उत्पादों का परीक्षण कर सकते हैं.

मॉस्को के स्कोल्कोवो संस्थान और कज़ान के इन्नोपोलिस संस्थान जैसे रूस के दो प्रतिष्ठित संगठनों के सहयोग से मॉस्को के भारतीय दूतावास ने इस मिशन की रुपरेखा तैयार की है. यह मिशन रूसी संगठनो और पूंजीपतियों के साथ विचार विमर्श, रूसी स्टार्टअप इन्क्यूबेशन केंद्रों के दौरे, रूसी विश्वविद्यालयों के साथ सहयोग, बिज़नस-टू-बिज़नस लेनदेन सहित भारतीय संगठनों के लिए रूसी संगठनो के साथ एक प्रासंगिक और उच्च स्तरीय संलग्नता और सहयोग सुनिश्चित करेगा और शोध के अनेक अवसर प्रदान करेगा.

इस मिशन के लिए नामांकन प्रक्रिया एस गोपालकृष्णन, अध्यक्ष, सीआईआई स्टार्ट-अप काउंसिल और सह-संस्थापक-इंफोसिस द्वाराइस मिशन में शामिल होने के लिए भेजे गए निमंत्रण के साथ शुरू हुई. आईआईटी, आईआईएससी, आईटीपीएल, एसटीपीआई इत्यादि संस्थानो के स्टार्टअप इन्क्यूबेशन केन्द्रों सहित देश के विभिन्न संगठनों द्वारा भेजे गए नामांकन के बाद, रूस के आयोजन कर्ताओ ने अंततः इस मिशन के लिए भारत से कुल 18 प्रतिनिधियों का चयन किया है जो मॉस्को और कज़ान में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे. प्रतिनिधिमंडल 9 दिसंबर को रूस के मास्को में पहुचेगा और 14 दिसंबर 2018 को रूस के कज़ान में अपनी यात्रा समाप्त करेगा.

सीआईएमपी के अनुसार, यह प्रतिष्ठित मिशन बिहार में अंतर्राष्ट्रीय दृष्टिकोण प्राप्त करने के लिए भविष्य के अन्य स्टार्टअप उद्यमों की सहायता करेगा. चूंकि इस अंतरराष्ट्रीय अनुभव को बिहार में सभी स्टार्टअप के साथ साझा किया जाएगा (जो भविष्य में उभर रहे हैं).

CIMP के निदेशक डा वी मुकुन्दा दास में इस मिशन के लिए संस्थान के चयन होने पर हर्ष व्यक्त करते हुए बताया की यह एक्स पोजर सीआईएमपी संकाय सदस्यों को आने वाले वर्षो में बिहार के उभरते स्टार्टअप उद्यमियों में अंतर्राष्ट्रीय मानकों और सफलता की कहानियों का प्रसार करने में मदद करेगा.

सीआईएमपी में उच्च योग्य और अनुभवी संकाय सदस्यों का एक पूल है, उनमें से अधिकतर आईआईएम और आईआईटी जैसे प्रतिष्ठित संस्थानों के पूर्व छात्र हैं. निदेशक, सीआईएमपी के अनुसार, सभी संकाय सदस्य संस्थान के स्टार्टअप इन्क्यूबेशन केंद्र में सक्रीय रूप से योगदान करते है. डा वी मुकुन्दा दास ने प्रोफेसर शर्मा को इस मिशन की सफलता के लिए शुभकामना देते हुए कहा की भविष्य में भी संस्थान राज्य में उध्यमता को बढ़ावा देने के प्रयास जारी रखेगा.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*