नवादा में पुरानी रंजिश को लेकर विवाद, धारदार हथियार से किया वार, महिला समेत 4 जख्मी

लाइव सिटीज, नवादा : जिले के उग्रवाद प्रभावित गोविन्दपुर थाना क्षेत्र के दर्शन गांव के बधार में पुरानी रंजिश को लेकर धारदार हथियार से हमला कर चार लोगों को गंभीर रूप से घायल कर दिया गया. घायलों में एक महिला भी शामिल है. दो घायलों को पीएमसीएच पटना रेफर किया गया है. घटना के पीछे पुरानी रंजिश बताई जा रही है. घटना के बावत पीड़ित पक्ष द्वारा थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई गई है. पुलिस ने त्वरित कार्रवाई कर दोनों आरोपितों को जंगली इलाके से गिरफ्तार कर लिया.

बताया जाता है कि पिछले साल तीज के दिन इसी गांव के राजकुमार यादव के पुत्र जितेंद्र यादव ने घर में घुस कर एक महिला के साथ दुष्कर्म किया था. प्राथमिकी दर्ज होने के बाद आरोपित फरार हो गया था. करीब छह-सात महीना फरारी के बाद 28 अप्रैल 19 को गोविदपुर थाना की पुलिस ने नवादा रेलवे स्टेशन से जितेंद्र को नाटकीय तरीके से गिरफ्तार किया था. गिरफ्तारी के बाद दुष्कर्म पीड़िता के परिजनों पर आरोपित पक्ष द्वारा केस में समझौता के लिए दवाब बनाया जाने लगा.

परिजन उसे जल्द जेल से बाहर निकालने के लिए किसी भी हद तक जाने को तैयार थे. इस बीच मंगलवार की शाम में दुष्कर्म पीड़िता के परिजन अपने खेत पटवन की तैयारी कर रहे थे. तभी दुष्कर्म आरोपित जितेंद्र के पिता राजकुमार यादव (रिटायर्ड सिपाही) और भाई वीरेंद्र यादव लाठी डंडा और तलवार लेकर पहुंचा और वहां मौजूद लोगों पर हमला बोल दिया. जिसमें एक महिला समेत चार लोग गंभीर रूप से जख्मी हो गए. तलवार की वार से विनोद यादव का पेट फट गया. जबकि विनोद के भाई उमेश यादव का जांघ कट गया.

दोनों वहीं घायल होकर गिर पड़े, इसके बाद विनोद यादव का बेटा सुजीत यादव और उसकी मां कलवा देवी आई तो उसे भी लाठी डंडा से वार घायल कर दिया. हमलावरों की खूनी खेल से ग्रामीण सहम गए. किसी ने प्रतिरोध नहीं किया.

घटना को अंजाम देने के बाद दोनों हमलावर झारखंड की ओर फरार हो गए. घायलों को तत्काल गोविदपुर पीएचसी लाया गया. जहां डॉ. विनोद कुमार ने प्राथमिक उपचार कर बेहतर इलाज के लिए सदर अस्पताल नवादा रेफर कर दिया गया. सदर अस्पताल से विनोद व उमेश को पटना रेफर कर दिया गया. सूचना के बाद थानाध्यक्ष ज्योति पुंज दल बल के साथ दर्शन गांव पहुंचे.

उन्होंने घटनास्थल का निरीक्षण किया और आरोपितों की धर – पकड़ के लिए छापेमारी की. लेकिन सभी आरोपित फरार मिले. बाद में मिली गुप्त सूचना के आधार पर आरोपित पिता-पुत्र राजकुमार यादव (रिटायर्ड सिपाही) और वीरेंद्र यादव को गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*