शुकराना समारोह के दौरान प्रशासन सतर्क

पटना : प्रशासन इस बार गंगा में नाव के परिचालन को लेकर कोई लापरवाही नहीं बरतना चाहता. विदित हो कि पिछले साल मकरसंक्रांति के मौके पर पटना और सोनपुर दियारा के बीच नाव दुर्घटनाग्रस्त हो गई थी और कई लोगों की जान चली गई थी. शासन ने तब सोनपुर के कई अधिकारियों पर दंडात्मक कार्रवाई की थी. कई लोगों को बचा लेने का भी आरोप तब प्रशासन पर लगा था. अभी पटना में प्रकाश पर्व के शुकराना समारोह की गहमागहमी है. देश विदेश से सिक्ख श्रद्धालु पटना तशरीफ ला रहे हैं. पूरा शहर खासतौर पर पटना सिटी का इलाका उत्सवी माहौल से सराबोर है. प्रशासन ऐसे मौके पर दुर्घटना की ऐसी किसी भी आशंका को पूरी तरह से खारिज कर देना चाहता है.



23 से 25 दिसंबर तक सारण जिले के सोनपुर अनुमंडल प्रशासन ने गंगा में निजी नावों के परिचालन पर पूरी तरह से रोक लगा दी है. गंगा किनारे स्थित कंगन घाट पर सुरक्षा के व्यापक प्रबंध किये गये हैं. इसके लिए नावों से गश्ती, SDRF, NDRF की कंपनियों के अलावा गोताखोरों की भी प्रतिनियुक्ति की गयी है.  सारण के DM हरिहर प्रसाद के अनुसार सोनपुर अनुमंडल पदाधिकारी को विभिन्न स्थानों पर सुरक्षा संबंधित फ्लैक्श, बैनर लगाने के निर्देश दिये गये हैं. इस अवसर पर पर्यटन विभाग द्वारा अन्य कार्यों के साथ-साथ सारण जिला क्षेत्र के अधीन टूरिस्ट फेस्लिटेशन सेंटर तथा घाट के किनारे सीढ़ी का निर्माण कराया जा रहा है.

हरमंदिर साहब, पटना साहिब

जिला प्रशासन एवं पर्यटन विभाग के द्वारा नदी घाट पर बैरिकेटिंग की व्यवस्था की गयी है. घाटों पर आवश्यकता अनुसार, खतरनाक घाट, गहरी नदी घाट का बोर्ड लगाने का निर्देश भी भवन प्रमंडल छपरा के कार्यपालक अभियंता को दिया गया है. सोनपुर एसडीओ सुधीर कुमार, एसडीपीओ पंकज कुमार को संयुक्त रूप से नावों से नदी में गश्ती करने के साथ-साथ निजी नावों को 27 दिसंबर तक हर हाल में बंद रखने के आदेश का अनुपालन करने का निर्देश दिया गया है.

पटना की तरफ सोनपुर सारण क्षेत्र के अधीन आने वाले झाउगंज घाट, कंगन घाट, खाजेकलां घाट पूर्णत: बंद रहेगा तथा गश्ती दल इन घाटों के आसपास पड़ने वाले गंगा के मध्य अवस्थित टापू पर पर्यटकों को जाने से रोकेंगे. हर हाल में छह बजे अपराह्न के बाद जहां नावों का परिचालन बंद रहेगा वहीं नागरिक सुरक्षा हेतु स्वयंसेवकों की प्रतिनियुक्ति भी गयी है.

हरमंदिर साहब, पटना साहिब

सुरक्षा के मद्देनजर जिला प्रशासन ने विभिन्न वरीय प्रशासनिक पदाधिकारियों के मोबाइल नंबर भी जारी किये हैं जिससे कोई भी व्यक्ति किसी भी आकस्मिक स्थिति के संबंध में दूरभाष पर सूचना दे सके. इसके लिए जिला प्रशासन ने एक नियंत्रण की स्थापना की है. जिसमें जिला भू-अर्जन पदाधिकारी विनोद सिंह, सोनपुर अनुमंडल पदाधिकारी, सोनपुर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी के मोबाइल नंबर पर भी सूचना दी जा सकती है.

इन पदाधिकारियों के साथ-साथ वैशाली एवं पटना के पदाधिकारियों से भी समन्वय स्थापित कर विधि व्यवस्था संधारण सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया है. डीएम ने संबंधित सभी पदाधिकारियों को स्पष्ट तौर पर निर्देशित किया है कि इस दिशा में किसी भी प्रकार की कोताही बर्दाश्त नहीं की जायेगी.