स्कूल ऑफ ग्लोबल एडुकेशन में आयोजित हुआ पहला पैरेंट ओरिएन्टेशन प्रोग्राम

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: नवीनतम शिक्षण तकनीक और नेक्स्ट एजुकेशन शिक्षण प्रणामी पर आधारित पटना में तेजी से उभरते स्कूल ऑफ ग्लोबल एडुकेशन का पहला ‘पैरेंट ओरिएन्टेशन प्रोग्राम’ सोमवार को स्कूल परिसर में आयोजित हुआ. इस ओरिएन्टेशन के पश्चात नए सत्र की पढ़ाई भी 18 अप्रैल से शुरू हो जाएगी. इस अवसर पर मुख्य अतिथि के तौर पर बीपी मण्डल यूनिवर्सिटी के पूर्व कुलपति डॉ रिपुसूदन प्रसाद श्रीवास्तव बतौर मुख्य अतिथि साथ ही स्कूल के निदेशक अभिजीत रंजन रवि मौजूद रहे.

इस अवसर पर स्कूल की प्राचार्य शर्मिष्ठा चौधरी ने बच्चों के डेवलपमेंट में एकेडमिक और को-कौरिकुलर एक्टिविटीज को समान रूप से तरजीह देने की बात कही. हर अभिभावक चाहता है कि उनके बच्चों को शुरू से ही सबसे बेहतरीन शिक्षा मिले. ऐसा सोचना सही भी है. क्योंकि आज की प्रतियोगिता से भरे दौर में शिक्षा ही तो सबका हथियार हैं. अच्छे से अच्छा स्कूल ढूंढ़ा जाता है, जहां बच्चे का सर्वांगीण विकास हो. मतलब यह कि न सिर्फ किताबी ज्ञान मिले, बल्कि दुनिया भर का प्रैक्टिकल ज्ञान भी बच्चों को प्राप्त हो.

उन्होंने आगे कहा कि आज के समय में दुनिया दिन-प्रतिदिन छोटी होती जा रही है. ऐसे में शहर के बाहर जानेवाले लोगों की संख्या भी बढ़ रही है. बहुत से लोग अपने बच्चों को पढ़ने के लिए दूसरे राज्यों में भेजते हैं या भेजना चाहते हैं, जिससे उनके बच्चों को अंतरराष्ट्रीय स्तर की शिक्षा मिले. लेकिन, अब आपको अपने बच्चों को पटना के बाहर भेजने की जरूरत नहीं हैं. आधुनिक शिक्षा के मामले में अब पटना आत्मनिर्भर बन रहा है. इस बात का गवाह पाटलिपुत्रा कॉलोनी स्थित पी एंड एम मॉल के समीप स्थित स्कूल ऑफ ग्लोबल एजुकेशन है. क्योंकि, अब अभिभावकों को बेहतर शिक्षा के लिए बच्चों को पटना या दूसरे शहरों में भेजने की जरूरत नहीं पड़ेगी, ये बातें स्कूल ऑफ ग्लोबल एजुकेशन के सीईओ अभिजीत शंकर ने कहीं.

उन्होंने कहा कि कुछ वर्षों में पटना का तेजी से विकास हुआ है. यह पहला स्कूल है, जहां STEM Education से बच्चों का विकास किया जाएगा. यहाँ डिजिटल क्लास रूम, प्रोजेक्टर रूम, साइंस लैब, रोबोटीक लैब, एक्स्ट्रा करिकुलर एक्टिविटी लैब, लैंगवेज लैब, कंप्यूटर लैब, म्यूजिक रूम, स्किल डेलवपमेंट रूम, इंडोर गेम्स रूम, सीसीटीवी एवं किड्स लाइब्रेरी, प्ले एरिया, एलईडी टीवी एवं म्यूजिक सिस्टम आदि की सुविधा बच्चों के लिए उपलब्ध है.

क्या है STEM एजुकेशन

STEM एजुकेशन उन अवधारणाओं को एकीकृत करती है. जिन्हें आमतौर पर अलग-अलग कक्षाओं में अलग-अलग विषयों के रूप में पढ़ाया जाता है. वास्तविक जीवन स्थितियों में ज्ञान के आवेदन पर जोर दिया जाता है, STEM Classes में एक सबक या यूनिट आमतौर पर वास्तविक दुनिया की समस्या का हल ढूंढने के लिए आधारित होती है. परियोजना आधारित शिक्षा पर जोर देती है. साथ ही कलात्मक डिजाइन STEM Education का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बनता जा रहा है. क्योंकि यह रचनात्मकता का एक अनिवार्य हिस्सा है. स्कूल ऑफ ग्लोबल एजुकेशन में अभी एडमिशन की प्रक्रिया चल रही है. एडमिशन से संबधित किसी भी तरह की जानकारी के लिए 9102407874, 9102407873 पर कॉल कर सकते हैं.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*