बिहार बोर्ड के 21 स्टाफ सस्पेंड, प्राथमिकी दर्ज, पूरी लिस्ट देखें

शनिवार को सुबह में बिहार बोर्ड के स्टाफ ने किया था हंगामा

पटना (अमित जायसवाल) : बिहार बोर्ड से बड़ी खबर आ रही है. मीडिया में आ रही रिपोर्ट के अनुसार हंगामा करनेवाले 21 स्टाफ पर बिहार बोर्ड प्रशासन ने बड़ा एक्शन लिया है. अध्यक्ष ने हंगामे में शामिल स्टाफ को चिह्नित करने के बाद उन्हें सस्पेंड कर दिया. बताया जाता है कि इतने पर ही मामला थमने वाला नहीं है. सस्पेंड किये गये स्टाफ के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करायी गयी है.

गौरतलब है कि पटना के रहनेवाले राजेश गुंजन व अन्य ने टेंडर पर कंप्यूटर ऑपरेटर पद के लिए एमटीएस का फॉर्म भरा था. स्टूडेंट्स ने इसके लिए परीक्षा भी दी थी. इन्होंने टाइपिंग स्पीड टेस्ट को को भी पास कर लिया. वहीं 5 दिसंबर को इन लोगों के पास फोन आया. फोन करनेवाले ने खुद को बोर्ड का स्टाफ बताया. फोन करनेवाले ने खुद को दीपक वर्मा बताते हुए कहा कि अगर नौकरी चाहिए तो 80 हजार रुपये जमा करने होंगे. गुंजन ने उसकी बातों को रिकॉर्ड कर लिया. खास बात कि फोन करनेवाले ने अकाउंट नंबर भी दिया.



गुंजन ने इसकी जानकारी बिहार बोर्ड प्रशासन और एसएसपी मनु महाराज को दी. इसी बीच जांच में पता चला कि राजेश रंजन इकलौता अभ्य​र्थी नहीं है. कई अभ्यर्थियों से भी पैसे मांगे गये हैं. उनलोगों से चंदन शर्मा व रामसकल के नाम पर पैसे मांगे जाने की बात कही गयी. इसे लेकर शुक्रवार को पुलिस ने फर्जीवाड़े के आरोप में बिहार बोर्ड के तीन स्टाफ को पुलिस पूछताछ के लिए थाने ले गयी, फिर सत्यापन के बाद देर रात में छोड़ दिया.

BSEB की MTS बहाली में ठगी, दो सहायक और एक प्रशाखा पदाधिकारी से पूछताछ जारी 
बिहार बोर्ड में हंगामा, गुस्से में स्टाफ, पढ़ें क्या है मामला

अपने स्टाफ की गिरफ्तारी को लेकर बिहार बोर्ड के स्टाफ शनिवार को काफी आक्रोशित थे. बोर्ड के स्टाफ ने कैंपस में शनिवार को जबर्दस्त प्रदर्शन किया. हंगामे के दौरान वे सब नारेबाजी भी कर रहे थे. सभी स्टाफ इसे लेकर नाराज थे कि बिना सबूत के उनके साथियों को हिरासत में लिया गया. कर्मचारियों को कहना है कि पुलिस बेवजह स्टाफ को पकड़ कर चली जाती है. स्टाफ का कहना है कि वे आगे से ऐसी पुलिसिया कार्रवाई को बिल्कुल ही बर्दाश्त नहीं करेंगे. स्टाफ की मांग है कि जब तक बोर्ड के किसी भी कर्मचारी के खिलाफ पुख्ता सबूत न हो, तब तक उन्हें गिरफ्तार नहीं किया जाये.

सस्पेंड होनेवाले कर्मचारियों की लिस्ट

इधर शनिवार को ही बोर्ड प्रशासन ने हंगामा करनेवाले स्टाफ के खिलाफ बड़ा एक्शन ले ​लिया है. बोर्ड कैंपस में काम छोड़कर बाहर हंगामे करने के मामले को बोर्ड ने काफी गंभीरता से लिया. बोर्ड ने हंगामा करनेवाले स्टाफ को चिह्नित कर सस्पेंड करने की कार्रवाई की. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार शनिवार को बड़ा एक्शन लेते हुए बोर्ड के 21 स्टाफ को सस्पेंड कर दिया गया. सस्पेंड होनेवाले सभी स्टाफ के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करायी गयी है.

एक बार फिर मिला नालंदा कनेक्शन, पुलिस के रडार पर BSEB का काम देख रही प्राइवेट एजेंसी 

बता दें कि कोतवाली थाने में दर्ज इस मामले के संबंध में डीएसपी विधि व्यवस्था डॉ मो शिबली नोमानी कहते हैं कि जिन नंबरों से फोन आया था, ट्रू कॉलर में भी उन्हीं कर्मियों का नाम आ रहा था. इसके कारण शक के आधार पर उन स्टाफ से पूछताछ की गयी. बाद में कोई साक्ष्य नहीं मिलने पर तीनों को छोड़ दिया गया. बता दें कि बोर्ड के प्रशाखा पदाधिकारी नरेंद्र कुमार के बयान पर अज्ञात के खिलाफ कोतवाली थाने में प्राथमिकी दर्ज की गयी है. वहीं ठगी का जो मामला सामने आया है, उसका कनेक्शन नालंदा से जुड़ रहा है. छापेमारी लगातार जारी है.