81 वर्ष की अवस्था में कर्नल SB LAL ने ली अंतिम सांस, गंगा किनारे हुए पंचतत्व में विलीन

सैनिक सम्मान के साथ अंतिम विदाई

पटना (विनोद कर्ण): समस्तीपुर के कल्याणपुर प्रखंड के खड़संड निवासी व 1988 में कर्नल (सिग्नल कोर) पद से सेवानिवृत्त हुए कर्नल SB LAL ने शुक्रवार की अलसुबह 3.00 पटना के पारस अस्पताल में अंतिम सांस ली. वे गुरुवार को पूना के लिए रवाना हुए थे. पटना के जयप्रकाश नारायण हवाई पर उन्हें दिल का दौरा पड़ा. हवाई अड्डा के कर्मचारियों ने उन्हें एम्बुलेंस से पारस अस्पताल भेजा. कर्नल लाल की तबीयत खराब होने की सूचना पाकर पटना के बहादुरपुर हाउसिंग काॅलोनी में रह रही बहू मनीषा कृष्ण व अन्य संबंधी अस्पताल पहुंच गए. डाॅक्टरों के लाख प्रयास के बावजूद उन्हें बचाया नहीं जा सका.

कर्नल SB LAL ने ली अंतिम सांस

1962 के चीन, 1965 के पाकिस्तान एवं 1971 के बांग्लादेश युद्ध में भाग लेने वाले कर्नल लाल पूर्व सैनिक सेवा परिषद के प्रदेश महामंत्री पद को कई वर्षों से संभाल रहे थे. 1988 सेवानिवृत्त होने के तुरंत बाद उन्होंने पटना में अलबर्ट एक्का एक्स सर्विस मैन एसोसिएशन के संस्थापक के तौर पर व ईऐंडटी प्रोजेक्ट शुरू कर सेवानिवृत्त दर्जनों सैनिकों को रोजगार का अवसर प्रदान किया. वे समस्तीपुर के टेक्नोमिशन स्कूल के संरक्षक एवं कई अन्य निजी विद्यालय के अध्यक्ष भी थे. शिक्षा को बढ़ावा देने में उनके योगदान को भुलाया नहीं जा सकता है.



सैनिक सम्मान के साथ अंतिम विदाई

पिछले कुछ वर्षों से वे अपने पैतृक गांव खड़संड में रहकर खेती व समाज कल्याण के कार्य कर रहे. घर के पास ही वे एक स्कूल खोलने के प्रयास में जुटे थे. स्कूल का काम तेजी से बढ़ भी रहा था कि अचानक उनके चले जाने पंचायत व आसपास के लोग शोकाकुल हो गए.
इधर पटना के गुलबी घाट पर शुक्रवार की शाम उनका अंतिम संस्कार किया गया. उनके एक मात्र पुत्र ई. राजेश वैशमपायन ने मुखाग्नि दी. इससे पूर्व सैनिक सेवा परिषद के कई पदाधिकारी पहुंचे और तिरंगा ओढ़ाकर अंतिम सलामी दी. अंतिम संस्कार में सैकड़ों लोगों ने भाग लिया. वे अपने पीछे एक पुत्र, दो पुत्री सहित भरापूरा परिवार छोड़ गए हैं.

उनके भतीजे व टेक्नोमिशन स्कूल के निदेशक AK LAL ने बताया कि गांव में स्कूल खोलने के उनके सपनों को साकार किया जाएगा. उन्होंने बताया कि श्राद्ध कर्म का काम पैतृक गांव में ही संपन्न होगा.