JEE ADVANCE परीक्षा का कटऑफ 85-95 रहने की उम्मीद, ऑनलाइन हुई परीक्षा

JEE ADVANCE, एग्जाम, परीक्षा, ऑनलाइन एग्जाम, cutoff list, bihar news, बिहार हिंदी समाचार, हिंदी न्यूज़, news, bihar samachar

लाइव सिटीज डेस्क: 20 मई 2018 को जेईई एडवांस्ड की परीक्षा सम्पन्न हुई. आईआईटीयंस तपस्या के निदेशक पंकज कपाड़िया, प्रशांत चौबे एवं आकाश गोयल ने पहले चरण के प्रश्न-पत्र को अच्छा और दूसरे चरण के प्रश्न-पत्र को लेंदी बताया. संस्था के छात्रों और अन्य परीक्षार्थियों से बात करने के बाद और पेपर का विश्लेषण करने के बाद आईआईटीयंस तपस्या ने इस बार सामान्य वर्ग का कटऑफ़ 85 से 95 रहने की उम्मीद जताई है.

वहीँ ओबीसी वर्ग में कटऑफ़ 70 के आसपास तथा एससीएसटी के लिए कटऑफ़ 45 के आस-पास रहने की उम्मीद जताई. गणित लेंदी, पिफजिक्स और आर्गेनिक कैमिस्ट्री अच्छा और पिफजिकल एवं इनआर्गेनिक सामान्य रहा. निदेशक पंकज कपाड़िया ने बताया की इस बार ग्यारहवीं और बारहवीं कक्षाओं से लगभग बराबर प्रश्न पूछे गयें. केमेस्ट्री में आर्गेनिक से लगभग 45 प्रतिशत  पिफजिकल से 35 प्रतिशत, तथा इनआर्गेनिक से 20 प्रतिशत प्रश्न पूछे गये. पिफजिक्स में मैकेनिक्स से अधिक प्रश्न पूछे गये.

यह भी पढ़ें:

‘मिशन 2019’ के लिए बिहार बीजेपी का मंथन, घर-घर जा कर बतायेंगे सरकार की उपलब्धियां

आपको जानकारी हो कि परीक्षा से कुछ दिन पहले जो इम्पोर्टेन्ट टॉपिक्स की लिस्ट आईआईटीयंस तपस्या ने प्रदान की थी. उन्हीं टॉपिक्स से लगभग 55-60 प्रतिशत प्रश्न पूछे गये. आईआईटीयंस तपस्या के उन्होंने संस्था के छात्रों का प्रदर्शन बेहतर रहने की उम्मीद जताई. पहला पेपर देकर सामान्यतः खुश रहे छात्रों के चेहरे पर दूसरे पेपर के बाद थोड़ी उदासी का आभास हुआ.

निदेशक पंकज कपाड़िया ने बताया कि दोनों पेपर मिलाकर कुल 360 अंकों की परीक्षा हुई. हर पेपर में प्रत्येक विषय के प्रश्नों को तीन श्रेणी में बांटा गया :

1.एक या एक से अधिक सही उत्तर वाले 4 अंकों के 6 वस्तुनिष्ठ प्रश्न जिनमें पार्सियल तथा निगेटिव मार्किंग थी.

2.इंटिजर टाईप जिसमे इस बार दशमलव तक की गणना करनी थी. ऐसे 3 अंकों वाले 8 प्रश्न जिनमें निगेटिव मार्किंग नहीं थी.

3.गद्यांश पर आधरित 4 वस्तुनिष्ठ प्रश्न जिनमें प्रत्येक प्रश्न के 3 अंक तथा निगेटिव मार्किंग शामिल थे.

4.दूसरे पेपर में गद्यांश की जगह मैट्रिक्स वाले प्रश्न पूछे गए थे.

आपको ज्ञात हो कि इस बार पहली बार जेईई एड्वांस्ड की परीक्षा पूर्ण रूप से ऑनलाइन ली गई. इसलिए प्रश्नपत्र उपलब्ध नहीं है. उपरोक्त जानकारी अभ्यर्थियों द्वारा याद्याश्त पर आधारित बातचीत के अनुसार दी गई है.

सह-निदेशक रितेश सिंह ने बताया कि दूसरा प्रश्नपत्र लेंदी रहा और बच्चों ने समयाभाव की बात कहीं. पूरे भारत में कुछ जगहों पर विद्युत आपूर्ति तथा नेटवर्क में बाध जैसी परेशानी भी झेलनी पड़ी. बैंगलोर जैसे बड़े शहर में भी दूसरा पेपर एक-दो जगह पर शाम 4 बजे शुरू हो पाया. इन हालातों में आईआईटी जैसी परीक्षा दे रहे अभ्यर्थियों को बहुत परेशानी होती है.

देखें वीडियो:

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*