हादसे में गंभीर रूप से घायल युवक की जान बची, आंत फट चुका था…

पटना: एक दुर्घटना में संदीप की आंत फट गयी थी तथा मल खून के साथ मिल गया था. इससे उसके पूरे शरीर में जहर फैल गया था. बायें हाथ तथा कूल्हे में कई जगह फ्रैक्चर हो गये थे. पारस हाॅस्पिटल, दरभंगा के जेनरल सर्जन डाॅ. शमीम खुर्रम आजमी और हड्डी रोग विभाग के सर्जन डाॅ. दिलशाद अनवर ने तीन घंटे तक आॅपरेशन कर युवक की जान बचाई.  बताया जाता है कि संदीप अपनी मोटरसाइकिल से कहीं जा रहा था कि उसकी भिड़ंत भारी वाहन से हो गयी. उस दुर्घटना में उसकी आंत फट गयी तथा बायां हाथ और कूल्हे कई जगह फ्रैक्चर हो गये.

उसे मरणासन्न स्थिति में पारस ग्लोबल हाॅस्पिटल में भर्ती कराया गया. उसकी नस नहीं मिल रही थी, निरंतर खून का रिसाव हो रहा था तथा शरीर में जहर फैल गया था. इस स्थिति को मेडिकल भाषा में सेप्टीसिमिया कहते हैं. हाॅस्पिटल के जनरल सर्जन डाॅ. शमीम खुर्रम आजमी और हड्डी रोग विभाग के सर्जन डाॅ. दिलशाद अनवर ने तीन घंटे तक आॅपरेशन कर उसकी जान बचायी.

पारस ग्लोबल हाॅस्पिटल

डाॅ. आजमी ने बताया कि विभिन्न तरह की जांच के बाद पाया गया कि उसकी आंत फट गयी है जिससे मल और खून एक साथ मिल गया है. इसके कारण उसके पूरे शरीर में जहर फैल गया था. तब उसे आॅपरेशन थियेटर में ले जाकर उसका पेट खोला गया तथा आँत की मरम्मत की गयी.

देखें VIDEO : बिहार की सियासत एक बार फिर बदलने वाली है ?

पेट में कई इंजूरी थी जिसे ठीक किया गया. इसके बाद जाकर उसकी स्थिति संभल पायी. फिर हड्डी के डाॅ. अनवर ने बायें हाथ तथा कूल्हे के फ्रैक्चरों को ठीक किया. आॅपरेशन के 10 दिन बाद उसे हाॅस्पिटल से छुट्टी दे दी गयी है. अब उसकी स्थिति सामान्य हो गयी है तथा अब वह अपना काम स्वयं कर पा रहा है.

डाॅ. आजमी ने कहा कि अगर समय से उसे हाॅस्पिटल नहीं पहुंचाया गया होता तो उसकी जान को खतरा हो सकता था. उन्होंने कहा कि हमारे हाॅस्पिटल में सभी तरह की सुविधाएं मौजूद हैं, इसलिए हमें ऐसे जटिल आॅपरेशन करने में भी कोई दिक्कत नहीं आती है. संदीप ने डॉक्टर को जान बचाने के लिए शुक्रिया अदा किया है.

VIDEO : हो जाइए तैयार, पर्दे पर एक बार फिर धमाल मचाने आ रहे हैं गोविंदा.. 

 

About Vimalendu Singh 144 Articles
आकाशवाणी के युववाणी कार्यक्रम से पत्रकारिता का संक्रमण लगा. छात्रजीवन में स्वतंत्र रूप से लेखन. तदुपरांत नवभारत टाइम्स के 'हैलो दिल्ली' और 'शुभागमन' एवं दैनिक जागरण के 'नोयडा सिटी' 'जोश' एवं 'प्रॉपर्टी' के लिए दो वर्षों तक फीचर लेखन. 'विचार सारांश', 'मेरी संगिनी', 'द संडे इंडियन' 'चौथी दुनिया' में सब एडिटर, असिस्टेंट एडिटर, एसोसिएट एडिटर, डिप्टी एडिटर की जिम्मेवारी संभालने के बाद. ढाई वर्षों तक स्वतंत्र रूप से अनुवाद का कार्य. इंटरेस्ट का फील्ड आर्ट, कल्चर, ट्रेवल, फूड, कॅरियर वगैरह. ढाई वर्षों तक 'किलकारी', बिहार बाल भवन, मगध प्रमंडल, गया में प्रमंडल कार्यक्रम समन्वयक. संप्रति विगत एक साल से बिहार के सबसे प्रमुख वेब पोर्टल 'लाइव सिटीज' से जुड़कर कार्य. मुख्य अभिरूचि ट्रैवल, फोटोग्राफी, म्यूजिक, थियेटर

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*