पटना : बिहार में इन दिनों उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी के बेटे की शादी चर्चा में है. मीडिया में छाया हुआ है कि वे अपने बेटे की शादी बिना दहेज के कर रहे हैं. कार्ड भी नहीं छपा रहे हैं. लेकिन बिना शोर-शराबे के ही रालोसपा नेता नागमणि ने अपने बेटे की शादी बिना दहेज की करके समाज में एक मिसाल पेश की. खास बात रही कि इस बिना दहेज वाली शादी में वर-वधू को आशीर्वाद देने खुद बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पहुंचे. शनिवार को उन्होंने दोनों को गुलदस्ता भेंट कर उनके मंगल भविष्य की कामना की.

दरअसल शराबबंदी अभियान की सफलता के बाद बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने दहेज प्रथा और बाल विवाह के खिलाफ अभियान शुरू किया है. सरकारी स्तर पर जिले स्तर पर गांवों व मुहल्लों में लोगों को दहेजमुक्त विवाह के प्रति जागरूक किया जा रहा है. मुख्यमंत्री लोगों से अपील कर रहे हैं कि इस अभियान में सामज का हर तबका आगे आए. इस अभियान में अब हर आम-खास आगे आ भी रहे हैं. शुक्रवार को इसे लेकर दहेजमुक्त रथ भी रवाना हुआ है, जो जिलास्तर पर लोगों को इसका मैसेज देगा.

पटना के जगदेव स्थित आवास पर वर-वधू के साथ बैठे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार.

इसी कड़ी में रालोसपा नेता व पूर्व केंद्रीय मंत्री नागमणि और बिहार सरकार की पूर्व मंत्री सुचित्रा सिन्हा ने अपने बेटे की दहेजमुक्त शादी की. शादी पटना के जगदेव पथ स्थित उनके आवास पर हुई. शनिवार को मौके पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पहुंचे और उन्होंने वर-वधू को गुलदस्ता भेंटकर सफल वैवाहिक जीवन की शुभकामना दी. इस अवसर पर मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव चंचल कुमार भी उपस्थित थे. वहीं नवविवाहित दंपती के परिजन भी उपस्थित थे.

बिहार के टोलों-मुहल्लों में दहेज के खिलाफ जगेगा अलख, सीएम ने रथ किया रवाना 

बता दें अगले माह 3 दिसंबर को बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी के बेटे उत्कर्ष की भी शादी है. सुशील मोदी ने दहेजरहित शादी की घोषणा कर रखी है. यह शादी भी पटना में ही होगी. गौरतलब है कि बिहार में दहेजमुक्त शादी के अभियान को गति देते हुुए शक्रवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पटना से रथ को रवाना भी किया था. इस रथ की रवानगी के मौके पर भी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने लोगों से दहेज के खिलाफ आगे आने की अपील की थी. उन्होंने कहा कि समाज के हर तबके को इस अभियान में मदद के लिए आगे आने की जरूरत है.