सुलझ गया मामला : डेडबॉडी ICAS जितेंद्र झा की ही निकली, हरिद्वार में अंत्येष्टि

पत्नी भावना झा के साथ आईएएस जितेंद्र कुमार झा (फाइल फोटो)

लाइव सिटीज डेस्क : बिहार निवासी व दिल्ली में आईएएस रैंक के अफसर ICAS जितेंद्र कुमार झा की मौत का मामला सुलझ गया. तीन दिनों से चल रही अटकलों पर रविवार को विराम लग गया. दिल्ली के पालम रेलवे ट्रैक पर गुरुवार को मिली जितेंद्र झा की डेडबॉडी को उनके परिवार के लोगों ने शिनाख्त कर ली. बता दें कि बिहार के सुपौल के रहनेवाले जितेंद्र झा और दिल्ली के द्वारिका इलाके से पिछले सोमवार से लापता थे. उनकी पत्नी भावना झा ने अपहरण की आशंका जतायी थी. इसी बीच गुरुवार को उनकी डेडबॉडी मिलने की बात हुई, लेकिन पत्नी ने जितेंद्र झा के शव होने से इनकार कर दिया, जिससे मामले में नया मोड़ आ गया था. इसके बाद रविवार को सारी अटकलें क्लियर हो गयीं. घटना के पहले ICAS जितेंद्र झा की तैनाती दिल्ली में एचआरडी मंत्रालय में थी.

उधर पोस्टमार्टम के बाद जितेंद्र झा की डेडबॉडी दिल्ली के द्वारिका स्थित उनके आवास पर लाया गया है. इसके बाद उनकी अंत्येष्टि हरिद्वार में की जायेगी. हालांकि भले ही पत्नी भावना झा ने शव मिलने से पहले इनकार कर दिया था, लेकिन घरवालों की हालत उसी दिन से रो रोकर खराब थी. इसे लेकर परिजनों का कहना था कि पत्नी को विश्वास ही नहीं हो रहा था कि अब वे इस दुनिया में नहीं रहे. इस कड़वे सच को पत्नी मानने को तैयार नहीं थी. लेकिन रविवार को पूरी तरह यह क्लियर हो गया कि डेडबॉडी जितेंद्र झा की ही थी.



IAS जितेंद्र झा के गम में रोती बिलखती मां

गौरतलब है कि ICAS जितेंद्र कुमार झा नई दिल्ली के द्वारिका इलाके से 9 दिसंबर यानी सोमवार से ही लापता थे. परिजनों के अनुसार जितेंद्र झा मॉर्निंग वाक के लिए घर से निकले थे, लेकिन वापस नहीं लौटे. परिजनों की मानें तो वे डेली मॉर्निंग वाक के लिए जाते थे. जितेंद्र के लापता होने की प्राथमिकी उनकी पत्नी भावना ने स्थानीय थाने में दर्ज करायी गयी थी. उनकी पत्नी भावना झा ने आरोप लगाया था कि सरकार ने एचआरडी मिनिस्ट्री में तैनाती से पहले चार साल में उनका छह बार ट्रांसफर किया था. इस कारण उनके पति जितेंद्र झा काफी प्रेशर में थे. पत्नी ने किडनैपिंग की भी आशंका जतायी थी.

मां बिमला देवी

ICAS जितेंद्र झा एचआरडी मंत्रालय से पहले मिनिस्ट्री ऑफ इंन्फॉर्मेशन एंड ब्रॉडकास्टिंग, मिनिस्ट्री ऑफ अर्थ साइंस, मिनिस्ट्री ऑफ लेबर, हेल्थ और सीपीडब्ल्यूडी में रहे चुके थे. ट्रांसफर होने से पहले वह लगातार तीन साल तक होम मिनिस्ट्री में तैनात थे. वहीं घटना की जनई दिल्ली पुलिस के डिस्ट्रिक्ट पुलिस डिप्टी कमिश्नर ने छह टीमों का गठन कर झा की तलाश शुरू कर दी थी. लेकिन डेडबॉडी मिलने के बाद पूरा मामला क्लियर हो गया. पोस्टमार्टम के बाद उनका शव द्वारिका स्थित घर पर पहुच गया है. परिजनों की मानें तो हरिद्वार में अंतिम संस्कार किया जाएगा.

File Photo

उधर ICAS जितेंद्र झा के बिहार के सुपौल के बभनगामा गांव स्थित घर में उनके उनकी मां व पिता रहते हैं. जितेंद्र के पिता दर्प नारायण झा व उनकी मां बिमला देवी हार्ट के पेशेंट हैं, ऐसे में उन्हें किसी तरह की जानकारी नहीं दी जा रही है. लेकिन उन्हें बेटे के लापता होने की जानकारी है. इसे लेकर उनकी हालत खराब है. गांव वालों के अनुसार सुपौल निवासी जितेंद्र झा तीन भाई-बहनों में छोटे हैं. वे काफी सरल स्वभाव के हैं. उनके बड़े भाई अमरेंद्र झा कस्टम विभाग में कमिश्नर के पद पर कार्यरत हैं. वहीं उनकी बहन दोनों भाइयों से छोटी है. वहीं जितेंद्र झा की शादी नेपाल के सेखरा गांव में हुई थी. उन्हें दो बच्चे हैं, एक लड़का और एक लड़की. दोनों जुड़वां हैं.

बिहार के IAS जितेंद्र झा की दिल्ली में मिली डेडबॉडी, तीन दिनों से थे लापता 
मामले में मोड़ : IAS जितेंद्र झा की पत्नी ने किया शव पहचानने से इनकार, मां की हालत खराब