टॉयलेट स्कैमः अब जड़ तक पहुंच रही है पटना पुलिस, 24 घंटे में 3 अरेस्टिंग

पटनाः शौचालय घोटाला मामले में पटना पुलिस ने अपनी कार्रवाई को अब तेज कर दिया है. बीते 24 घंटे के अंदर एक-एक कर तीन बड़ी कार्रवाई पुलिस की ओर से की गई है. घोटाले में शामिल एक-एक कर तीन लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है. तीसरी गिरफ्तारी बख्तियारपुर से प्रविण कुमार शर्मा की हुई है. दरअसल, प्रविण बख्तियारपुर के एनजीओ मां सर्वेश्वरी सेवा संस्थान की चेयरमैन बॉबी कुमारी के हसबेंड हैं. शौंचालय घोटाला में बॉबी का नाम एफआईआर में दर्ज है. जो मामला सामने आने के बाद से फरार चल रही है.

पुलिस टीम ने बॉबी के रांची के बरियापुर में इन्द्रपस्थ कॉलोनी स्थित घर पर छापेमारी की थी. उस दौरान हसबेंड प्रविण मौके पर मिला. टीम ने घर की तलाशी ली. जांच के दौरान घोटाले से जुड़े कई डॉक्यूमेंट्स मिले. साथ ही बगैर सिग्नेचर वाले कई चेक बरामद किए गए. एक डेबिट कार्ड भी मिला. पुलिस की जांच में ये बात साबित हुई कि घोटाला में प्रविण अपनी ने अपनी वाइफ बॉबी का भरपूर साथ दिया. बराबर का दोषी पाए जाने पर पुलिस टीम ने उसे अरेस्ट कर लिया.

डाटा आॅपरेटर के अकाउंट में गए थे 2 लाख 97 हजार रुपये

इस मामले में प्रविण से पहले पुलिस ने डाटा आॅपरेटर प्रीति भारती को अपने कब्जे में लिया था. दरभंगा के गांधीनगर कठरिया की रहने वाली प्रीति के बैंक अकाउंट में शौचालय घोटाले का 2 लाख 97 हजार रुपए डिपोजिट किया गया था. इस मामले के फरार चल रहे मुख्य आरोपी व एग्जीक्यूटिव इंजीनियर विनय कुमार सिन्हा बिहार राज्य जल पर्षद अंचल-2 आॅफिस में ही प्रीति डाटा आॅपरेटर का काम कर रही थी.

घोटाला में प्रीति ने विनय कुमार सिन्हा का पूरा साथ दिया था. इस बात के ठोस सबूत मिलने के बाद ही पुलिस ने उसे गुरुवार को ही अरेस्ट कर लिया था. गौरतलब है कि इस घोटाले में सबसे पहली गिरफ्तारी बक्सर से एसबीआई बैंक के असिस्टेंट मैनेजर शिव कुमार झा की हुई थी. पटना के गांधी मैदान स्थित मेन ब्रांच में अपनी पोस्टिंग के दौरान विनय कुमार सिन्हा की मदद की थी. बगैर सिग्नेचर के चेक से रुपए ट्रांसफर करवा दिए थे.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*