शौचालय घोटाला : पुलिस रिमांड पर बिटेश्वर राय, कोर्ट ने दी 2 दिन की मंजूरी

पटना : शौचालय घोटाला के मास्टर माइंड माने जा रहे PHED के कैशियर बिटेश्वर राय दो दिन तक पुलिस रिमांड पर रहेंगे. मंगलवार को निगरानी कोर्ट ने SIT  की अपील को मानते हुए दो दिनों के रिमांड की अपनी मंजूरी दे दी है. दरअसल, सोमवार को ही 14 करोड़ रुपये से अधिक के शौचालय घोटाला मामले की जांच कर रही SIT ने पटना के निगरानी कोर्ट में बिटेश्वर राय को 5 दिनों के रिमांड पर देने की अपील की थी. लेकिन कोर्ट ने 5 दिन की जगह 2 दिन की ही मंजूरी दी है.

अब SIT  बेउर जेल में बंद इस घोटालेबाज को अपने ​कब्जे में लेगी. फिर DSP टाउन एसए हाशमी की अगुआई वाली एक टीम बिटेश्वर राय से पूछताछ करेगी. प्रभारी SSP सह सिटी SP सेंट्रल अमरकेश दारपीनेनी के अनुसार बुधवार की सुबह बिटेश्वर को बेउर जेल से रिमांड पर पूछताछ के लिए लाया जाएगा. सोर्स की मानें तो घोटाले से जुड़े कई ऐसे सवाल हैं, जिनके जवाब अब तक SIT को नहीं मिले हैं. उन सवालों के जवाब सिर्फ बिटेश्वर राय और फरार चल रहे PHED के एक्जक्यूटिव इंजीनियर विनय कुमार सिन्हा ही दे सकते हैं.

PHED के कैशियर बिटेश्वर राय

फरार घोटालेबाजों के खिलाफ इश्तेहार जारी कराने की है तैयारी

घोटाले में शामिल कई बड़े नाम अब भी फरार चल रहे हैं जिसमें एक्जक्यूटिव इंजीनियर विनय कुमार सिन्हा, NGO आदि शक्ति सेवा संस्थान के संचालक उदय सिंह समेत कई लोगों के नाम शामिल हैंं. इन लोगों की गिरफ्तारी का वारंट कोर्ट से पहले ही मिल चुका था. लेकिन SIT  को सफलता नहीं मिली. अब SIT  ने अपना एक कदम और आगे बढ़ा दिया है. फरार चल रहे घोटालेबाजों के खिलाफ इश्तेहार जारी कराने के लिए कोर्ट में अपील कर दी है.

प्रभारी SSP सह सिटी SP सेंट्रल अमरकेश दारपीनेनी

कर्नाटक और आंध्रप्रदेश में भी चल रही है तलाश

विनय कुमार सिन्हा की तलाश कई जगहों पर चल रही है. सोमवार तक जम्मू—कश्मीर में SIT विनय को खंगाल रही थी. SIT  को लीड कर रहे अमरकेश दारपीनेनी की मानें तो विनय की तलाश में एक साथ कई जगहों पर छापेमारी चल रही है. मिले इनपुट्स के आधार पर जम्मू—कश्मीर के साथ ही SIT में शामिल पुलिस अधिकारी कर्नाटक और आंध्र प्रदेश पहुंच चुके हैं. इन सभी जगहों पर उसकी खोज की जा रही है. उदय सिंह के भी कुछ ठिकानों का पता चला है जिसे खंगाला जा रहा है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*