लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: बिहार में महिला सिपाहियों की बर्खास्तगी का मामला बढ़ते जा रहा है. बड़ी खबर आ रही हैं कि पुलिस लाइन में महिला सिपाही की मौत पर बवाल को लेकर जांच रिपोर्ट को पुलिस मुख्यालय में सौंप दी गई है. पटना के जोनल आईजी नैयर हसनैन खां ने खुद इस मामले की जांच रिपोर्ट मुख्यालय को सौंपी हैं.

सूत्रों के मुताबिक इस मामले में कई बड़े अधिकारीयों का नाम आ रही है. यह मामला हाई प्रफोइल मामला हो गई है. जिस कारण रिपोर्ट में क्या लिखा है. इसकी जानकारी नहीं मिला पा रही है.

बात दें कि आज पटना के वीवीआईपी इलाके में बर्खास्त महिला पुलिस प्रदर्शन करने पहुंची थी.जिसको देखते हुए पूरे इलाके में भारी संख्या में पुलिस बलों को तैनात किया गया है. इसी बीच पुलिस मुख्यालय जा कर आईजी नैयर हसनैन खां ने  अपनी रिपोर्ट सौंपी.

बता दे कि प्रदर्शन को देखते हुए सीएम अवास के बाहर भी सुरक्षा में बढ़ोत्तरी कर दी गई थी. बर्खास्त हुई महिला पुलिस के आंदोलन के कारण पटना जू के गेट न. 2 के कुछ बर्खास्त महिला सिपाही को हिरासत में लेने की भी बात सामने आई है.

आपको बता दे कि कल भी बर्खास्त की गई महिला सिपाहियों ने इस मामले को लेकर बिहार महिला आयोग का दरवाजा खटखटाया है. वही महिला आयोग ने उनकी मदद करने का भरोसा भी दिलाया. आयोग ने कहा इन सिपाहियों को डीजीपी से मुलाकात का भी आश्वासन भी दिया है.

ये है पूरा मामला

बता दें कि 2 नवंबर को पटना पुलिस लाइन में महिला और पुरुष सिपाहियों ने एक महिला कास्टेबल की मौत के बाद जमकर बवाल काटा था. उनका साफ तौर से आरोप था कि महिला कांस्टेबल की मौत छुट्टी नहीं मिलने के कारण ही हुई है. इन लोगों ने आरोप भी लगाया था कि छुट्टी मांगने पर वरीय अधिकारी उनके साथ अभद्र व्यवहार करते हैं.

बता दें कि इस पूरी घटना के बाद सरकार ने इस मामले में जांच रिपोर्ट मांगी थी जिसके बाद करीब 167 पुलिसकर्मियों का बर्खास्त करने का आदेश दिया गया था. बर्खास्त सिपाहियों का कहना है कि उनका पक्ष जाने बगैर ये पूरी कार्रवाई कर ली गई है.