सरकारी नीतियों के विरोध में RJD का चक्का जाम, सड़कों पर दिखा बंद का असर

madhubani
सरकारी नीतियों के विरोध में राजद का चक्का जाम
लाइव सिटीज डेस्क (मधुबनी/वीरेन्द्र दत्त): गिट्टी, मिट्टी और बालू को लेकर सरकारी जन विरोधी नीतियों के खिलाफ राष्ट्रीय जनता दल का चक्का जाम गुरुवार को शांतिपूर्ण, सफल और स्वतः स्फूर्त दिखा. सड़कों पर वाहनों की आवाजाही काफी कम रही. सिर्फ स्थानीय लोगों का आना जाना रहा. पूर्वाह्न में राष्ट्रीय राज मार्ग 57 पर ट्रकों, बसों एवं भारी वाहनों के आने जाने पर पूरी तरह ब्रेक लगा दिखा. विद्यालयों, सरकारी कार्यालयों तथा बैंकों तथा अस्पतालों में कामकाज अन्य दिनों की तरह निर्बाध रुप से चला.
बंद समर्थकों के द्वारा कहीं भी लोगों में किसी प्रकार की परेशानी उत्पन्न नहीं की गई. सांकेतिक रुप से प्रखंड अध्यक्ष धनवीर यादव एवं राज्य समिति सदस्य देव नारायण यादव के नेतृत्व में राम चंद्र यादव, लेखदत कुमार, मो. इदरीस बख्तियार, दिनेश कुमार, उमेश कुमार यादव, यशोधर यादव, वैद्यनाथ यादव, कमलदेव राम, भोरील मुखिया, रघुवंश मंडल, दिगम्बर मंडल समेत अन्य बंद समर्थकों ने कुछ समय के लिए राष्ट्रीय राज मार्ग 57 के लोहिया चौक पर वाहनों की आवाजाही को वाधित करने का प्रयास किया.
madhubani
बंद का सड़कों पर दिखा असर
परंतु वाहनों की आवाजाही की शून्य रफ्तार देखकर बंद समर्थकों के हौसले बुलंद दिखे और तत्क्षण लोग बंद समर्थन हेतु बाजार की ओर आ गये. हालांकि किसी व्यावसायिक प्रतिष्ठान को जबरिया बंद कराये जाने का प्रयास उनके द्वारा नहीं किया गया और न ही इस प्रकार की कोई जानकारी मिल पा रही है.
उत्साह से लवरेज बंद समर्थकों ने बताया कि प्रदेश में गिट्टी, मिट्टी और बालू की खरीद बिक्री पर तुगलकी फरमान जारी कर राज्य की सरकार ने हर एक व्यक्ति को परेशान कर रखा है. चाहे मजदूर हो या किसान, वाहनों के मालिक हों अथवा उसके चालक और संवाहक, राज मिस्त्री हो अथवा निर्माण कार्य में लगे कुशल अकुशल मजदूर सबकी रोजी रोटी सरकारी इस जन विरोधी नीति ने छीन ली है. यही कारण है कि बंद का समर्थन हर जगह मिला.