CM नीतीश से मिले छोटू सिंह, विधान परिषद में नामांकन की दी बधाई

लाइव सिटीज, पटना : जदयू नेता अरविन्द कुमार सिंह उर्फ़ छोटू सिंह ने आज सोमवार 16 अप्रैल को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मुलाक़ात की. यह मुलाक़ात इस मायने में अहम है कि छोटू सिंह ने हाल ही में पार्टी में खुद की उपेक्षा किये जाने का आरोप लगाया था. सिंह ने आज मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से उनके द्वारा विधान परिषद चुनाव में नामांकन दाखिल किये जाने वक़्त मुलाक़ात की. उन्होंने CM नीतीश को फूलों का गुलदस्ता सौंपा और नामांकन के लिए बधाई दी.

छोटू सिंह ने मुख्यमंत्री से मुलाक़ात और उन्हें बधाई देने के बाद बताया कि उन्हें विधान परिषद का सदस्य के तौर पर नामांकित किये जाने पर पूरे बिहार की जनता की ओर से बधाई दी. फूलों का गुलदस्ता भेंट किया जिसे उन्होंने सहर्ष स्वीकार किया. इस दौरान सिंह के साथ विद्यानंद विकल, राजीव रंजन पटेल, राजेश कुमार और दुर्गा प्रसाद सिंह आदि लोग थे.

उचित सम्मान न मिलने से थे नाखुश

मालूम हो कि छोटू सिंह ने शुक्रवार 13 अप्रैल को पार्टी में खुद को उचित सम्मान न मिलने का आरोप लगाते हुए राज्य कार्यकारिणी से इस्तीफा दे दिया था. हालांकि जदयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने राज्य कार्यकारिणी से दिए उनके इस्तीफे को स्वीकार नहीं किया था. वशिष्ठ नारायण सिंह ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के निर्देश पर शनिवार 14 अप्रैल को छोटू सिंह को मिलने बुलाया था, जिस दौरान उनका इस्तीफा नामंजूर किये जाने की जानकारी दी गई.

वशिष्ठ नारायण सिंह से मुलाक़ात के बाद छोटू ने कहा था कि वे हमेशा से पार्टी के वफादार सिपाही रहे हैं. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी, आरसीपी सिंह, ललन सिंह जी हमारे अभिभावक की तरह हैं. इन सबकी मैं हमेशा से इज्जत करता आया हूं. सभी ने पार्टी के प्रति मेरी निष्ठां को सराहा है. बीते लगभग एक दशक से मैं पटना से लेकर दिल्ली तक पार्टी का झंडा बुलंद करता रहा हूं. हजारों लोगों के हाथ में जदयू का झंडा थमाया है.

सिंह ने जदयू प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह से मुलाक़ात के बारे में बताया कि उन्हें मिठाई खिलाई गई. वशिष्ठ नारायण सिंह ने उन्हें युवा नेता बताते हुए आगे कार्य करते रहने के लिए कहा है. प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि उन्हें पूर्व में भी पार्टी की ओर से बड़ी जिम्मेवारियां दी गई थी, जिसे उन्होंने निष्ठापूर्वक निभाया.

About vimal 16 Articles
पत्रकार नहीं, मीडियाकर्मी हूं

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*