मुंगेर : चुनावी शोरगुल में गुम हुई दलित मासूम छात्रा के साथ गैंगरेप का मामला

भागलपुर के अलीगंज में इंटर की छात्रा पर एसिड अटैक तथा जमालपुर बड़ी केशोपुर की मासूम छात्रा की सामूहिक दुष्कर्म के दौरान मौत की घटना से शर्मसार हुआ पूर्वी बिहार

लाइव सिटीज, मुंगेर (सुनील जख्मी) : लौहनगरी जमालपुर में मासूम छात्रा के साथ गैंगरेप के दौरान मौत तथा भागलपुर के अलीगंज में इंटर की छात्रा पर एसिड अटैक की घटना से छात्राओं में भय का माहौल देखा जा रहा है.  इन दोनों घटनाओं से मुंगेर सहित पूर्वी बिहार शर्मसार हो गया है. मानवता को शर्मसार करने वाली इस घटना से छात्राओं में भय का माहौल है. वहीं शासन- प्रशासन के विरुद्ध छात्राओं एवं महिलाओं में आक्रोश का भाव देखा जा रहा है.

लोकतंत्र के महापर्व के दौरान जमालपुर में दलित मासूम छात्रा के साथ घटित घटना चुनावी शोरगुल के बीच गुम हो गई है. घटना को 5 दिन बीत गए हैं  लेकिन किसी दल के प्रत्याशी ने गैंगरेप की शिकार बनी मासूम छात्रा के परिजनों से मिलना तक मुनासिब नहीं समझा है. जिसको लेकर जमालपुर तथा आसपास के इलाकों में प्रत्याशियों के विरोध आक्रोश देखा जा रहा है. बताते चलें कि 20 अप्रैल को बड़ी केशवपुर मोहल्ले की रहने वाली दलित मासूम छात्रा के साथ उसके दो सहपाठियों ने नशीला पदार्थ खिलाकर गैंगरेप की घटना को अंजाम दिया था.

गैंगरेप के दौरान छात्रा की मौत सदर अस्पताल में उपचार के दौरान हो गई थी. मासूम छात्रा को उसके दो सहपाठियों ने सुबह 8:00 बजे के आसपास किताब खरीदने का बहाना बनाकर अपने साथ ले गए थे. जमालपुर रेल कारखाना के 06 नंबर गेट के आसपास सुनसान जगह पर उसके दोनों सहपाठियों ने मासूम को जहरीला पदार्थ खिलाकर उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया. दुष्कर्म के दौरान छात्रा की मौत हो गई. मृतक की मां के बयान पर दो युवकों को नामजद अभियुक्त बनाया गया था. घटना के दिन ही दोनों नामजद अभियुक्त आकाश कुमार एवं आलोक कुमार सहित एक अन्य को गिरफ्तार कर पुलिस जेल भेज दिया था.

मानवता को शर्मसार करने वाली घटना को 05 दिन बीत गए है लेकिन लोकसभा चुनाव के मैदान में कूदे एनडीए प्रत्याशी राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह तथा महागठबंधन के उम्मीदवार नीलम देवी ने पीड़ित परिवार से मिलना भी मुनासिब नहीं समझा है. दुष्कर्म जैसी बड़ी घटना कटने के बाद भी रहनुमाओं ने पीड़ित परिवार का आंसू पहुंचना भी जरूरी नहीं समझा. जिसे लेकर जमालपुर विधानसभा क्षेत्र के लोग सवाल उठाने लगे हैं.

इतना ही नहीं जमालपुर विधानसभा क्षेत्र के स्थानीय विधायक सह ग्रामीण कार्य मंत्री शैलेश कुमार ने भी पीड़ित परिवार के प्रति अपनी सहानुभूति तक प्रकट नहीं किया है और ना ही पीड़ित परिवार से मिलकर दुख दर्द जानने का प्रयास किया. इसको लेकर जमालपुर के लोग सवालिया लहजे में जनप्रतिनिधियों तथा प्रत्याशियों के प्रति नाराजगी देखी जा रही है.

इधर कांग्रेस महिला प्रकोष्ठ की प्रदेश संयोजिका राखी राणा तथा राजद महिला प्रकोष्ठ की जिलाध्यक्ष बबीता भारती ने बयान जारी कर कहा कि जमालपुर में मासूम दलित छात्रा के साथ सामूहिक दुष्कर्म की घटना तथा भागलपुर के अलीगंज में इंटर की छात्रा पर एसिड अटैक की घटना ने बिहार  में छात्राओं एवं महिलाओं की सुरक्षा पर सवालिया चिहन लगा दिया है.  इन दोनों घटना की जितनी भी निंदा की जाए वह कम है. राज्य सरकार की विफलता का परिणाम है कि आए दिन महिलाओं एवं छात्राओं की अस्मत लूटी जा रही है. एनडीए सरकार महिलाओं एवं छात्राओं की सुरक्षा की कोई चिंता नहीं है इन दोनों घटनाओं में शामिल आरोपियों को फांसी का सजा मिलना चाहिए.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*