गुंजन खेमका की हत्या पर पूछ रहे हैं कुशवाहा, नीतीश जी आपके राज को क्या कहना चाहिए?

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : पटना के बहुत बड़े बिजनेसमैन गोपाल खेमका के बेटे गुंजन खेमका की बीच सड़क पर गोली मारकर हत्‍या कर दी गई है. हाजीपुर में हुए इस वारदात से एक बार फिर से बिहार में जंगल राज जैसी घटना की याद दिला दी है. वहीं अब इस वारदात के बाद से बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के सुशासन राज के दावे को भी बड़ा धक्का लगा है. घटना के बाद पक्ष से लेकर विपक्ष सब नीतीश कुमार को घेरने में लगे हैं.

उपेन्द्र कुशवाहा ने नीतीश कुमार से पूछा है सवाल

हाजिपुर में हुई इस घटना के बाद बिहार में राजनीतिक बयानबाजियां शुरू हो चुकी हैं. इस घटना को लेकर सबसे पहले रालोसपा अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने नीतीश कुमार  पर हमला बेालते हुए उनसे पूछा है कि वे इस घटना को क्या कहेंगे. कुशवाहा ने पूछा है कि आप इस राज को क्या कहेंगे. पहले आप बहुत गुंडाराज का आलाप करते थे.

पूर्व केन्द्रीय मंत्री कुशवाहा ने नीतीश कुमार पर हमला बोलते हुए ट्वीट किया है. कुशवाहा ने अपने ट्वीट में लिखा — माननीय श्री नतीश कुमार जी, तब आप बिहार में गुंडाराज होने की बात कहते नहीं थकते थे…..! अब वर्तमान राज को क्या कहना चाहिए? बिहार की जनता जानना चाहती है.

राजद नेता शक्ति सिंह यादव ने भी बोला हमला

कुशवाहा के अलावा राजद के नेता शक्ति यादव ने भी नीतीश कुमार पर बड़ा हमला बोला है. राजद नेता ने भी अपने ट्विटर पर ट्वीट करते हुए नतीश कुमार पर हमला बोलते हुए लिखा — नीतीश जी बिहार में हो रहे हत्या से आप की अंतरात्मा नही जागती? बिहार में गुंडा राज हैं या राक्षस राज! अब तो बिहार और बिहारी को बकस दीजिये बिहार का अब रखवाला भगवान ही हैं जंगल राज कहने बाले चुप क्यों हैं.

आपको बता देें कि हाजीपुर में बिजनेसमैन गोपाल खेमका के बेटे गुंजन खेमका की गोली मारकर हत्‍या कर दी गई है. इस वारदात में एके – 47 से के प्रयोग किए जाने की बात कही जा रही है. ड्राइवर को भी गोली मारी गई है. इस घटना से संपूर्ण बिहार के बिजनेसमैन डर सकते हैं. खेमका परिवार बिहार के व्‍यापारियों में बहुत ही भय फैमिली है .

मारे गए गुंजन खेमका खुद भी बिजनेसमैन थे. हाजीपुर के इंडस्ट्रियल एरिया में उनका कार्टून का कारखाना था. वे कारखाना ही जा रहे थे. गेट पर पहुंचे ही थे, तभी फायरिंग हो गई. इसका आशय यह निकल रहा है कि अपराधी पहले से रैकी कर रहे थे. उन्‍हें गुंजन खेमका के आने-जाने की खबर थी.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*