आज औरंगाबाद भेजे गए 16 डॉक्टर्स, मंगल पांडेय भी पहुंचेंगे जायजा लेने

लाइव सिटीज डेस्क: बिहार में लू का तांडव लगातार जारी है. भीषण गर्मी और लू की चपेट में आने से बिहार के कई जिलों में अब तक 89 लोगों की मौत हो गई है तो वहीं, एईस (एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम) से मुजफ्फरपुर जिले में अब तक 92 बच्चों की मौत हो चुकी है. बता दें कि स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार ने बताया कि लू से पीड़ित लोगों के इलाज के लिए रविवार को औरंगाबाद में आठ, गया चार व नवादा में चार डॉक्टर भेजे गये.

लू व गर्मी से बचाव के लिए प्रचार-प्रसार की पूरी व्यवस्था की गयी है. वहीं, स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय सोमवार को औरंगाबाद जायेंगे. वहां वह चिकित्सा कार्यों का जायजा लेंगे और अधिकारियों के साथ बैठक कर आवश्यक निर्देश भी देंगे.

एएनएमएमसीएच में 9 से अधिक मरीजों की मौत हो चुकी है. एएनएमएमसीएच में इमरजेंसी में अफरातफरी की स्थिति बन गई है. नए मरीजों के लिए अतिरिक्त जगह व बेड की व्यवस्था करनी पड़ रही है. मरीजों को अधीक्षक कक्ष के सामने के हॉल में बेड लगाकर इलाज शुरू किया गया. मरीजों की संख्या बढ़ते हुए देख अस्पताल प्रशासन ने हैंडओवर नहीं किए गए नए इमरजेंसी भवन में एक वार्ड तैयार किया. इस वार्ड में एसी आदि की व्यवस्था की जा रही है.

एएनएमएमसीएच गया के डॉ नीरज कुमार ने कहा कि लू लगने के केस में पारासिटामोल की दवा बहुत असर नहीं करती है. बेहतर है कि पीड़ित व्यक्ति के शरीर को बर्फ या ठंडे पानी से भिगोकर कपड़े से पोछें. इससे शरीर का तापमान कंट्रोल हो सकता है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*