पटना में ‘मंथन’ का आयोजन, नुक्कड़ नाटक के जरिये कलाकारों ने दिया सोशल मेसेज

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: सामाजिक औपचारिकता तभी संभव है जब समाज का हर वर्ग उसके ऋण को हर ओर पहुंचाने में श्रेय हो. यह औपचारिकता तभी संभव है जब हर प्राणी अपने आसपास की गतिविधियों पर विशेष ध्यान दें एवं समाज के हित के लिए अपना जीवन संपन्न करें.

इसी प्रकार के सामाजिक हित को दर्शाने दिल्ली विश्वविद्यालय के शहीद सुखदेव कॉलेज ऑफ बिजनेस स्टडीज की नाट्य संस्था को लेकर आई है. देश का सबसे बड़ा नुक्कड़ नाटक त्यौहार मंथन. इस साल मंथन का 12वा संस्करण आयोजित हो रहा है. जिसके उपलक्ष में इस वर्ष मंथन क्षेत्रीय त्यौहार के रूप में निखर कर सबके सामने आया है. जिसमें पूरे भारत को चार भागों में बांटा गया है उत्तर, पूर्व, पश्चिम और दक्षिण.

मंथन पहुंचा बिहार के पटना शहर में जहां टीम ज़ेवीअर थीयटर क्लब ने अपना नाटक पटना के सेंट्रल मॉल में आयोजित किया. नाटक का नाम तमाशा था, जिसमें लड़कियों के जीवन रूपी कहानी को दर्शाया गया है ओर उनकी समस्याओं का व्याख्या भी कराया गया है.

पटना में मंथन का आयोजन करने वाले शिवंशु का कहना है कि नाटक की प्रस्तुति बहुत अच्छी थी जिससे बहुत कुछ सिखने को मिला.

पूरे भारतवर्ष में अंधकार को मिटा रहा मंथन इस वर्ष 24 अंतर्राष्ट्रीय शहरों में भी अपनी छाप छोड़ रहा है. जिनमें ब्राजील दक्षिण अफ्रीका मोरोको नाइजीरिया आदि देशों के शहर प्रमुख हैं.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*