बिहार की बेटी ने यूएसए में सिनेटर बनकर बनाई अपनी पहचान, समाजसेवा के बल पर मिली सफलता

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: मुंगेर की बेटी मोना दास ने बिहार का नाम रोशन किया है. बता दें कि मोना फिलहाल अमेरिका में डेमोक्रेटिक पार्टी से सिनेट की सदस्य निर्वाचित हुई हैं. उन्हें यह सफलता पहली बार में ही मिली है.  लगातार आठ वर्षों से जीत रहे शख्स को उन्होंने पराजित किया है. 14 जनवरी को मोना ओलंपिया में शपथ लेंगी.

मोना हालांकि अब अमेरिकी नागरिक हैं लेकिन मुंगेर जिले के खडगपुर अनुमंडल के दरियापुर गांव को अपनी इस बेटी पर गर्व है. उनके पिता सुबोध दास पेशे से इंजीनियर हैं और अमेरिका में ही रहते हैं. उनका गांव से जुड़ाव अब भी कायम है. मोना मुंगेर के पूर्व सिविल सर्जन डॉ. गिरिश्वर नारायण दास की पौत्री हैं. उनके सिनेटर बनने से गांव में खुशी की लहर दौड़ है.

मोना का जन्म 1971 में दरभंगा मेडिकल कॉलेज अस्पताल में ही हुआ था, यह बातें अमेरिका में रह रहे चाचा अजय दास ने बताई. मोना के पिता सुबोध दास व सगे चाचा अजय दास अमेरिका में इंजीनियर हैं. एक और चाचा विजय दास वहीं डॉक्टर हैं. बाद में वे मोना व उसकी मां को साथ लेकर अमेरिका चले गए. मोना के भाई सोमदास का जन्म अमेरिका में हुआ था. मोना लगभग 12-14 वर्ष की उम्र में दरियापुर गांव आईं थीं. उसके बाद से वे यहां नहीं आ पाईं हैं. मोना और उनके छोटे भाई सोम की शादी अमेरिका में हुई है.

बड़ी होने पर मोना ने अमेरिका के सिनसिनाटी विश्वविद्यालय से मनोविज्ञान में स्नातक की डिग्री ली. आगे उसने पिंचोट विवि से प्रबंधन में स्नातकोत्तर की डिग्री हासिल की. लेकिन जन सरोकार व जनसेवा में अत्यधिक रूचि रहने के कारण वे प्रबंधन से अधिक राजनीति में आगे बढ़ती चली गईं. राजनीति की राह आसान तो नहीं रही, लेकिन जनसेवा के बल पर जनसमर्थन बढ़ता गया. साथ ही बढ़ता गया हौसला. परिणाम भी समाने है. वे अब सीनेटर बन गईं हैं.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*