अब स्नातक में नामांकन की नई व्यवस्था लागू, बिहार बोर्ड नहीं यूनिवर्सिटी लेगी दाखिला

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: अब ग्रेजुएशन में दाखिला लेने के लिए बिहार बोर्ड पर निर्भर नहीं होना पड़ेगा. इस सूचना खुद बिहार के राज्यपाल लालजी टंडन ने दी है. उन्होंने कुलपतियों के साथ एक बैठक की है. इस बैठक में उन्होंने बताया है कि अब बिहार बोर्ड नहीं बल्कि यूनिवर्सिटी स्नातक में दाखिला लेगी. यह प्रक्रिया पूरी तरह से ऑनलाइन होगी.

पिछले सत्र में बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के माध्यम से नामांकन लिया गया था. आगामी सत्र में बीएसईबी की भूमिका नहीं रहेगी. छात्रों को यूएमआईएस में भी बीएसईबी की तरह कॉलेज चुनने का विकल्प मिलेगा.

इस संबंध में राज्यभवन में गुरुवार को राज्यपाल लालजी टंडन की अध्यक्षता में कुलपतियों के साथ बैठक में यह तय किया गया इस माह तक यूएमआईएस के लिए आवश्यक सभी प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी. ताकि इसे आगामी सत्र 2019-22 में लागू किया जा सके.

बैठक के दौरान राज्यपाल ने कहा कि रिटायर्ड कर्मियों को ड्यूज सर्टिफिकेट नहीं देने वाले प्राचार्य अब निलंबित किए जाएंगे. नो ड्यूज सर्टिफिकेट नहीं देने से पेंशन के मामले अटक जाते हैं और कर्मी कोर्ट चले जाते हैं. उन्होंने कहा कि राजभवन ने जांच में पाया है कि ऐसे केस ज्यादातर प्राचार्यों या विवि के अधिकारियों की लापरवाही से होते हैं.

अब इस मामले में दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी. आपको बता दें कि सरकार ने यूएमआईएस के लिए विवि को राशि भी दी है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*