Olx पर ऑफर देख बन जाते थे खरीदार,फिर लूट लेते थे बाइक

लाइव सिटीज डेस्क: अगर आप सेकेंड हैंड बाइक खरीद रहे हैं तो जरा संभल कर खरीदें. क्योंकि हो सकता है कि जिस सेकेंड हैंड बाइक को आपने पसंद किया है, उसके कागजात फर्जी हों. ये हम नहीं, बल्कि पटना पुलिस कह रही है. शुक्रवार को पटना पुलिस ने ऐसे ही एक बड़े मामले का खुलासा किया है. पुलिस के हत्थे इस बार एक ऐस ऐसे गैंग का गुर्गा आया है, जो बाइक लूटने के लिए OLX की मदद लेता था. फिर दलालों के जरिए डीटीओ ऑफिस से लूटी गई बाइक के नकली कागज बनवा लेता था. इसके बाद अच्छे कीमत पर लूट की बाइक को बेच दिया करता था.

मामला पुलिस की नजर में काफी दिनों से था. लेकिन अपराधी पुलिस की गिरफ्त दूर थे. ऐसे में अचानक एसएसपी मनु महाराज को पता चला कि कुछ अपराधी हज भवन के पास जुटे हुए हैं. एसएसपी के निर्देश पर सचिवालय थाने की टीम एक्टिव हो गई. टीम ने रेकी की तो जानकारी सही मिली. अपराधी फिर से किसी को अपना शिकार बनाने की तैयारी में था. जैसे ही पुलिस ने छापेमारी की, उन्हें देख अपराधी भागने लगे. लेकिन भंवर पोखर इलाके का रहने वाला अपराधी अमीर हुसैन पुलिस की गिरफ्त में आ गया.

ऐसे होती थी लूट की वारदात 

ओएलक्स पर बिक्री के लिए शातिर अच्छी कंडीशन वाली बाइक को पसंद किया करते थे. फिर दिए गए मोबाइल नंबर पर कस्टमर बनकर कॉल करते थे. इसके बाद मोल-भाव करके रेट तय कर लिया करते थे. बात जब रुपये लेकर बाइक को सौंपने की होती थी तो किसी सूनसान जगह पर बुलाते थे. जैसे ही बाइक लेकर मालिक पहुंचता था, उसे हथियार का डर दिखाकर बाइक को लूटते और फिर फरार हो जाते थे.

दलाल दे रहे अपराधियों का साथ

लूट की बाइक को ठिकाने लगाने में दलाल अपराधियों का साथ दे रहे हैं. इनकी मिली भगत डीटीओ ऑफिस में तमाम स्टाफ के साथ भी है. इसी वजह से दलाल लूट की बाइक के फर्जी पेपर बड़ी आसानी से तैयार करवा लेते हैं. इसके एवज में अच्छी खासी रकम दलाल को अपराधियों की ओर से भी दी जाती है.


क्या कहते हैं अधिकारी

गैंग में शामिल दूसरे अपराधियों के साथ ही इनका साथ देने वाले दलालों की भी पहचान कर ली गई है. इनकी गिरफ्तारी के लिए टीम छापेमारी कर रही है.

मनु महाराज, एसएसपी, पटना

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*