तीन नेताओं के पार्टी छोड़ने पर RLSP बोली – जब सत्ता विहीन होंगे नीतीश तब होगा एहसास

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्कः RLSP के चीफ Upendra Kushwaha को बड़ा झटका लगा है. दरअसल, पार्टी के दो विधायकों ने एनडीए के साथ जाने का फैसला लिया है. वही पार्टी के एक एमएलसी ने भी एनडीए में जाने का फैसला लिया है. वही इन तीनों रालोसपा नेताओं के आरएलएसपी छोड़ एनडीए में जाने को लेकर रालोसपा की ओर से कड़ी प्रतिक्रिया दी गई है.

जल्द होगा तीनों नेताओं को गलती का एहसास

रालोसपा की ओर से अपने तीनों बागी नेताओं के पार्टी छोड़ने को लेकर कड़ी प्रतिक्रिया दी गई है. इस रालोसपा की ओर से अपने ट्वीटर अकाउंट पर एक पोस्ट लिखा गया है. अपने पोस्ट में रालोसपा ने तीनों नेताओं के पार्टी छोड़ने के पीछे प्रलोभन की बात कही है. साथ ही तीनों नेताओं को उनकी गलती का एहसास जल्द होने की बात भी कही है.

रालोसपा ने अपने ट्वीटर अकाउंट पर ट्विट करते हुए लिखा — 2-3 लोग सत्ता और धन के प्रलोभन में फँसकर #रालोसपा के लोकतांत्रिक प्रणाली के खिलाफ जा रहें हैं।  उपेन्द्र कुशवाहा सत्ता सुख को त्यागकर जनहित की आवाज बुलंद करते रहे हैं और आगे भी करते रहेंगे। समय पर इन्हें अपनी गलतियों का अहसास तब होगा, जब @NitishKumar जी सत्ताविहीन होंगे.

वहीं पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता माधव आनंद ने भी इस ट्वीट को रीट्वीट किया है. इससे पहले उन्होंने एक ट्​वीट लिखते हुए पार्टी छोड़नेवाले तीनों नेताओं को अवसवादी बताते हुए कहा की इन्हे विचारधारा से कोई लेना देना नहीं इन्हें तो सिर्फ अपने लाभ से मतलब है.

बता दें कि पटना में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान पार्टी के विधायक सुधांशु शेखर और ललन पासवान ने एनडीए के साथ रहने का एलान किया. इतना ही नहीं पार्टी के एमएलसी संजीव श्याम सिंह ने भी एनडीए के साथ रहने का एलान कर दिया है. इसके साथ ही साथ पटना में मीडिया के सामने ही तीनों ने RLSP पर अपना दावा भी ठोक दिया.

कुशवाहा से नाराज चल रहे थे

आपको बता दें कि रालोसपा अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा के एनडीए से अलग होने के बाद रालोसपा के विधायक और विधान पार्षद ने आज 15 दिसंबर को अपनी रणनीति का खुलासा कर दिया. पार्टी के दोनों विधायक ललन पासवान और सुधांशु शेखर और एकमात्र विधान पार्षद संजीव श्याम एक साथ सब मिलकर राजधानी में अपनी रणनीति का एलान किया.

गौरतलब है कि रालोसपा के विधायक ललन पासवान लंबे समय से उपेंद्र कुशवाहा के खिलाफ मोर्चा खुले हुए हैं. वे रालोसपा पर शुरू से अपना दावा करते रहे हैं. वहीं, रालोसपा के विधायक सुधांशु शेखर भी उपेंद्र कुशवाहा के फैसले से इतर एनडीए में ही रहने की बात कहते रहे हैं.

नीतीश कुमार से भी मिले थे सुधांशु

बता दें कि पिछले दिनों रालोसपा के विधायक सुधांशु शेखर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और प्रशांत किशोर से भी मुलाकात कर चुके हैं. वहीं, इनके जदयू में शामिल होने के भी कयास लगाए जाते रहे हैं. लेकिन वो ललन पासवान के अड़ंगा के कारण जदयू में शामिल नहीं हो सके.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*