बोले पटना एयरपोर्ट के निदेशक आरएस लाहौरिया : बिहटा में नहीं उतर पायेंगे बड़े विमान

बिहटा में भी जंबो जेट व बड़े कार्गों विमान नहीं उतर पायेंगे

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क :  मई 2019 में बिहटा एयरपोर्ट का निर्माण शुरू हो जायेगा. इसके लिए बिहटा एयरफोर्स स्टेशन के आसपास की अधिग्रहित की गयी 108 एकड़ जमीन एयरपोर्ट ऑथोरिटी को मिल गयी है. लेकिन 108 एकड़ जमीन में 11000 फीट तक रनवे का विस्तार संभव नहीं है. इसके लिए 156 एकड़ जमीन की जरूरत थी. सिविल एविएशन डे के अवसर पर आयोजित प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए पटना एयरपोर्ट के निदेशक आरएस लाहौरिया ने आगे कहा कि इसके कारण बिहटा में भी जंबो जेट व बड़े कार्गों विमान नहीं उतर पायेंगे.

पटना एयरपोर्ट पर दो नये पार्किंग बे का निर्माण पूरा हो चुका है. अगले पखवाड़े से इनका इस्तेमाल शुरू हो जायेगा. इसके साथ ही एयरपोर्ट पर बड़े विमानों के पार्किंग की संख्या बढ़ कर छह हो जायेगी. विदित हो कि इन दिनों पटना एयरपोर्ट पर पांच पार्किंग बे का इस्तेमाल किया जा रहा है, जिसमें चार बड़े विमानों के लिए और एक छोटे विमान के लिए है.

पार्किंग बे की संख्या बढ़ने पर सर्दियों में होने वाले भीड़ भाड़ के समय विमानों को पार्किंग बे खाली होने के इंतजार में आसमान में लंबे समय तक चक्कर नहीं लगाना होगा.पटना एयरपोर्ट के विस्तार के लिए आईसीएआर की जमीन मांगी गयी है. यदि मिली, तो यहां भविष्य में पटना एयरपोर्ट के टर्मिनल टू का निर्माण होगा.

बिहटा एयरपोर्ट का निर्माण दो चरणों में होगा और हरेक चरण में निर्मित संरचना की क्षमता 25 लाख यात्रियों की होगी. पटना एयरपोर्ट के एप्रोच लाइट का कमीशन डीजीसीए जल्द ही कर देगी. उसके बाद इसका इस्तेमाल शुरू कर दिया जायेगा. प्रेस वार्ता के दौरान पटना एयरपोर्ट के नये टर्मिनल भवन, उसके सामने के अशोक स्तंभ, मल्टी लेवल कार पार्किंग, इंट्री और एग्जिट गेट का एक होना और एलिवेटेड सड़क से टर्मिनल में प्रवेश की व्यवस्था जैसी विशेषताओं पर विस्तार से पीपीटी से प्रकाश डाला गया.

पटना एयरपोर्ट के नेविगेशन और कम्यूनिकेशन सिस्टम व फायर फाइटिंग व्यवस्था पर भी पीपीटी दिखाया गया. प्रेस वार्ता के दौरान सीआईएसएफ के कमांडेंट विशाल दुबे, एजीएम एटीसी संतोष कुमार, गो एयर के स्टेशन मैनेजर मनमोहन तिवारी समेत एएआई और एयरलाइंस के कई अधिकारी उपस्थित थे.

दरभंगा एयरपोर्ट से अगले साल जून-जुलाई से उड़ान शुरू होगी. स्पाइसजेट ने इसके लिए उड़ान दो योजना के अंतर्गत एयरपोर्ट ऑथोरिटी से स्वीकृति ली है. पहले चरण में दरभंगा से दिल्ली और मुंबई के लिए उड़ान शुरू होगा. क्षेत्रीय संपर्कता योजना के अंतर्गत शुरू किये गये इस हवाई सेवा की आधी सीटों पर प्राइस कैपिंग लागू होगी, जिससे बाजार मूल्य से काफी कम कीमत पर टिकटें उपलब्ध होंगी.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*