सुपौल पहुंचा सृजन घोटाला, जिला सहकारिता पदाधिकारी गिरफ्तार

लाइव सिटीज डेस्क/प्रियरंजन सिंह : सृजन घोटाले की जांच अब परवान पर है. सीएम नीतीश कुमार की छवि का दाग बनता जा रहा ये घोटाला अब अधिकारियों को भी अपनी चपेट में ले रहा है. शनिवार को एसआईटी ने सुपौल में छापेमारी की है. इस दौरान एसआईटी के अधिकारियों ने सुपौल के जिला सहकारिता पदाधिकारी से पूछताछ की. पूछताछ से संतुष्ट न होने पर एसआईटी उन्हें गिरफ्तार करके अपने साथ ले गई है. इस दौरान सहकारिता पदाधिकारी के कार्यालय में तो हलचल रही. लेकिन इलाके में किसी को कानों—कान भनक नहीं लगी.

 

शनिवार दोपहर करीब दो बजे सब कुछ सामान्य गति से चल रहा था. अचानक समाहरणालय इलाके के पास स्थित जिला सहकारिता पदाधिकारी कार्यालय में एक कार आकर रूकी. कार से करीब 6—7 लोग उतरे और जिला सहकारिता पदाधिकारी पंकज झा के कमरे में चले गए. करीब 15—20 मिनट बाद वह बाहर निकले. पंकज झा उनके साथ थे. उन्होंने अपने अधीनस्थ अधिकारियों को बताया कि उन्हें एसआईटी ने गिरफ्तार किया है और अपने साथ ले जा रहे हैं. इस सूचना के मिलते ही सहकारिता पदाधिकारी के कार्यालय में हलचल मच गई. कोई कुछ समझ पाता, इससे पहले ही अधिकारी गिरफ्तार भी हो चुके थे और कार में बैठकर निकल भी चुके थे.

 

सदर थाना के थानाध्यक्ष राजेश्चर सिंह ने गिरफ्तारी की पुष्टि की है. उन्होंने बताया कि एसआईटी के अधिकारियों ने उन्हें अपने आने की सूचना दी थी. लेकिन न ही उन्होंने सुरक्षा की मांग की और न ही ये बताया कि उन्हें कहां पर छापेमारी करनी है. करीब 6—7 लोग भागलपुर से आए थे और संभवत: वहीं पर सहकारिता पदाधिकारी को ले जाया गया है. गौरतलब है कि करीब 1000 करोड़ रुपये के आंकड़े को छूने जा रहे सृजन घोटाले में इससे पहले भी कई अधिकारियों की गिरफ्तारी की गई है.

यह भी पढ़ें :-
तेजस्वी अटैक : भाजपा ने विपिन शर्मा को पार्टी से निकाल सृजन घोटाले में संलिप्तता पर लगायी मुहर
सृजन का महाघोटाला : सहरसा में भी हुई 162 करोड़ की हेराफेरी

सृजन की होगी CBI जांच, मुख्यमंत्री ने दिया निर्देश

 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*