सृजन स्कैम : बोरिंग रोड में अरूण कुमार के फ्लैट पहुंची SIT, मिला लटका ताला

पटना : सृजन महाघोटले की जद में आए भागलपुर के जिला कल्याण पदाधिकारी अरूण कुमार का पटना में भी फ्लैट है. वो भी बोरिंग रोड जैसे वीआईपी एरिया में. पटना के नॉर्थ श्रीकृष्णा पुरी इलाके में महादेव कुंज अपार्टमेंट है.

studio11

अपार्टमेंट का फ्लैट नंबर 205 अरूण कुमार का है. जहां सोमवार की सुबह करीब सात बजे महाघोटाला की जांच कर रही एसआईटी ने छोपमारी की थी. लेकिन एसआईटी को फ्लैट से खाली हाथ ही वापस लौटना पड़ा. क्योंकि फ्लैट की गेट पर ताला लटका हुआ था. न तो अरूण कुमार की वाइफ यहां थी और न ही फैमिली का कोई दूसरा मेंबर यहां था.

दरअसल, एसआईटी की जांच और पटना में छापेमारी की एक बड़ी वजह है. जब अरूण कुमार के भागलपुर वाले घर पर छापेमारी की गई थी तो उनकी वाइफ वहां से लापता थीं. एसआईटी को वहां कुछ भी नहीं मिला था. न तो किसी प्रकार के डॉक्यूमेंट्स मिले थे और न ही ज्वेलरी. ऐसे में माना जा रहा है कि एसआईटी के कार्रवाई की भनक अरूण कुमार और उनकी वाइफ को पहले से थी. जिसके बाद ​ही उनकी वाइफ फरार हो गई.

एसआईटी को ऐसा लगा था कि भागलपुर से भागने के बाद अरूण कुमार की वाइफ पटना स्थित अपने फ्लैट पर आएगी. लेकिन ऐसा हुआ नहीं. वो कहीं और ही फरार हो गई है. जब एसआईटी ने अरूण से उनकी वाइफ के बारे में पूछा तो कोई संतोषजनक जवाब नहीं मिला. इसके बाद ही भागलपुर पुलिस ने तत्काल एक्शन लेते हुए रेलवे स्टेशन और बस अड्डे पर जांच शुरू करवा दी. लेकिन उनकी पत्नी का सुराग नहीं मिल सका. पुलिस को पूरा शक है कि उनकी पत्नी जरूरी दस्तावेज, गहने और नगदी लेकर भाग निकली हैं. अभी भी अरुण कुमार की पत्नी की तलाश में छापेमारी जारी है.

गौरतलब है कि भागलपुर जिले के तीन सरकारी बैंक खातों में सरकार की ओर से आवंटन भेजे जाते थे. डीएम ऑफिस, बैंक अफसरों की मिलीभगत से सृजन महिला विकास सहयोग समिति लिमिटेड, सबौर नामक गैर सरकारी संगठन के छह बैंक खातों में उस राशि को ट्रांसफर कर दिया जाता था. दरअसल यह समिति बिल्कुल को-ऑपरेटिव बैंक की तरह डील करती थी. समिति से जुड़े लोग उस पैसे को जमीन खरीद, रियल एस्टेट के अलावा अन्य निजी कामों में भी खर्च करते थे. बड़े-बड़े नेता से अफसर तक के इस गोरखधंधे में शामिल होने की चर्चा है. सबसे अहम बात कि यह वर्ष 2002 से चल रहा था. सूत्रों का यहां तक कहना है कि इसके तार झारखंड से भी जुड़े हो सकते हैं.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*