सितंबर से बदलने वाला है बैंकों का टाइम टेबल, जान लीजिए अब कब खुलेंगे बैंक

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: सभी सरकारी और क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक के ग्राहकों के लिए अच्छी और बहुत काम की खबर है. आपको मालूम है कि सभी सरकारी बैंक सुबह दस बजे से खुलते हैं ऐसे में बैंक से जुड़े काम करने के लिए ग्राहकों को बैंक खुलने का इंतजार करना पड़ता है, लेकिन अब ये नियम बदल जायेगा. क्योंकि बैंक के खुलने की टाइमिंग बदलने वाली है. जी हाँ अब बैंक के काम को निपटाने के लिए 11 बजे का इन्तेजार नहीं करना पडेगा, अब बैंक दो घंटे पहले यानी 9 बजे से ही खुल जायेगी.

आपको बता दें कि वित्त मंत्रालय के बैंकिंग डिविजन ने ये फैसला किया है कि सभी सरकारी और क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक अब सुबह दस बजे की बजाये 9 बजे ही खोले जायेंगे. दरअसल, देशभर के बैंकों के खुलने के समय को एक समान करने के लिए केंद्रीय वित्त मंत्रालय के बैंकिंग डिविजन ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये इसी साल जून में एक बैठक की थी. इस मीटिंग में ये तय हुआ था कि बैंकों को ग्राहकों की सुविधाओं का धयान रखना होगा. इसलिए कस्टमर्स की सुविधा के अनुसार ही बैंक ब्रांचेज खोलने होंगे. जिसके बाद ही सभी बैंक शाखाओं के खुलने के समय में बदलाव करने की मंजूरी दी गयी. ऐसे में अब सभी सरकारी और क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक अब सुबह 9 बजे ही खुल जायेंगे.

हालांकि IBA यानि इंडियन बैंक एसोसिएशन ने इस सम्बन्ध में तीन विकल्प दिए हैं. पहले विकल्प में बैंक खुलने और बंद होने का समय सुबह 9 बजे से दोपहर 3 बजे तक का रहेगा, दूसरा विकल्प सुबह 10 बजे से शाम 4 बजे तक का है वहीं तीसरे विकल्प में बैंकों का समय सुबह 11 बजे से शाम 5 बजे तक का दिया गया है. IBA ने बैंकों को निर्देश देते हुए कहा है कि वे 31 अगस्त तक जिला स्तरीय ग्राहक समन्वय समिति की बैठक करें और अपने – अपने क्षेत्र में बैंकिंग टाइम पर निर्णय ले लें. जिसके बाद इसके बारे में मीडिया के स्थानीय माध्यमों के जरिये लोगों को जानकारी दें.

बैंकिंग डिविजन की तरफ से आया ये नया फैसला सभी सरकारी और ग्रामीण बैंकों पर लागू होगा. वहीं बैंक खुलने का नया समय अगले महीने सितम्बर से लागू होने की उम्मीद की जा रही है.  बहरहाल, बैंकों की टाइमिंग बदलने से लोगों को काफी सहूलियत होगी, अपने ऑफिस जाने से पहले ही लोग बैंक से जुड़ा अपना काम निपटा पाएंगे.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*