जासूसी के लिए नहीं सुरक्षा के लिए लगाए गए हैं CCTV कैमरे : एडीजी

SK-Shinghal
SK-Shinghal

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेंस्क: बिहार में आज सुबह से CCTV कैमरा राजनीति का केन्द्र बना हुआ  है.  नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने आज सुबह ही कई सारे ट्वीट करके उनके आवास के बाहर लगे कैमरे को लेकर सरकार पर जासूसी का तीखा आरोप लगाया था. वहीं अब इस मामले को लेकर बिहार पुलिस के एडीजी मुख्यालय का बयान आया है. एडीजी एसके सिंघल ने इस बारे में बयान जारी कर इस पूरे मामले पर बिहार पुलिस  का पक्ष रखा है.

सीएम की सुरक्षा के लिए लगाए गए CCTV कैमरे 

इस बारे में मीडिया को जानकारी देते हुए एडीजी एसके सिंघल ने बताया कि ये कैमरे सीएम की सुरक्षा के लिहाज से लगाए गए हैं. पूरे परिसर और पदाधिकारियों की निगरानी और सुरक्षा को लेकर ये CCTV कैमरे लगाए गए हैं. उन्होंने कहा कि यहां के पूरे परिसर में कुल 11 सीसीटीवी कैमरे लगे हैं.

एडीजी ने बताया कि ये सारे कैमरे 2017 में ही लगाए गए थे.  उन्होंने बताया की सीएम नीतीश कुमार की सुरक्षा के लिहाज से 27 नवंबर 2017 को यहां के पूरे परिसर में कैमरे लगाने का निर्णय लिया गया था.

तेजस्वी यादव ने लगाया है जासूसी का आरोप

आपको बता दें कि आज सुबह ही बिहार के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने उनके घर के बाहर लगे कैमरे को लेकर कई सवाल खड़े किए थे. तेजस्वी ने सीसीटीवी कैमरे को लेकर बिहार सरकार ओर सीएम नीतीश पर उनकी जासूसी करने का आरोप लगाया है. तेजस्वी ने अपने ट्वीट में उनके निजता के अधिकार के हनन करने की बात कही है.

तेजस्वी यादव ने अपने एक ट्वीट में CCTV कैमरे का  एक वीडियो पोस्ट किया और लिखा — नीतीश जी,आपकी पुलिस और आपको अपनी सुरक्षा का पूरा अधिकार है लेकिन हमारे बेडरूम,आवास के अंदर मुख्य भवन के द्वार, रसोई,आवासीय कार्यालय और आवासीय निजता में 360 डिग्री के HD कैमरा लगाकर ताँक-झाँक करने का अधिकार नहीं है. आप हमारे घर के बाहर मेन गेट पर कैमरा लगवाइए हमें कोई दिक़्क़त नही.

तेजस्वी यादव द्वारा सीसीटीवी कैमरे को लेकर आए इस ट्वीट के बाद से ही बिहार के राजनीतिक गलियारों में  एक नया मुद्दा छा गया. तेजस्वी का समर्थन करते हुए हम पार्टी के नेता ओर बिहार के पूर्व सीएम जीतनराम मांझी ने इस कैमरे को तुरंत हटाने की मांग की.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*