वकील हत्याकांड : पत्नी और साले ने 6 लाख में दे दी थी जितेंद्र की हत्या की सुपारी, 6 महीने से हो रही थी कोशिश

Dig-Rajesh

लाइव सिटीज, (सुजीत सागर) : पटना हाईकोर्ट के वकील जितेंद्र सिंह की गोली मारकर हत्या करने के मामले में पुलिस ने बड़ा खुलासा किया है. इस मामले को लेकर आल डीआईजी ने एक प्रेस कांफ्रेंस करते हुए बताया की इस मामले को सुलझा लिया गया है. उन्होंने बताया है कि वकील की हत्या करने की साजिश में शामिल कुल आठ आरोपियों को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. बता दें कि हाईकोर्ट के वकील जितेंद्र की हत्या 5 दिसंबर को गोली मारकर कर दी गई थी.

पत्नी और साले ने रची हत्या की साजिश

हाईकोर्ट के वकील जितेंद्र सिंह की हत्या को लेकर पुलिस ने जांच पूरी कर ली है. पुलिस ने इस पूरे मामले के पीछे भूमि विवाद को कारण बताया है. वकील हत्याकांड मामले के बारे में पत्रकारों को जानकारी देते हुए डीआईजी राजेश कुमार ने प्रेस कांफ्रेंस में बताया कि जितेंद्र हत्याकांड में शामिल आठ अभियुक्तों को पटना पुलिस के द्वारा पकड़ लिया गया है. उन्होंने बताया कि पकड़े गए चारों आरोपियों में चार शार्प शूटर हैं. वही उन्होंने जानकारी दी कि अभी 4-5 और अपराधियों को पकड़ने के लिए छापेमारी जारी है.

DIG1
DIG1

इस मामले में सबसे बड़ा खुलासा करते हुए डीआईजी ने बताया कि जितेंद्र की हत्या में उसकी पत्नी और साले की संलिप्तता की भी पुष्टि हो चुकी है. पुलिस ने इस बारे में जानकारी देते हुए कहा कि जितेंद्र की पत्नी से उसकी हत्या को लेकर अभियुक्तों से 6 लाख रुपये में डील फाइनल की थी. डीआईजी ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि बची हुई रकम लेने के लिए ही आरोपी आए थे जिन्हे एसआईटी की टीम ने धर दबोचा.

क्या था पूरा मामला

डीआईजी ने इस मामले का खुलासा करते हुए वकील जितेंद्र की हत्या के पीछे भूमि विवाद को मुख्य कारण बताया. डीआईजी ने बताया कि वकील के साले और पत्नी ने एक जमीन को बेचना चाहते थे. दोनों ये जमीन ताजुद्दीन को बेचने वाले थे. इस जमीन को लेकर ताजुद्दीन ने जमीन के इकरार नामें पर पावर ऑफ अटॉर्नी करा लिया था.

bikes-and-arms
आरोपियों के पास से बरामद किए गए सामान

वकील जितेंद्र की हत्या को लेकर पत्नी की भूमिका के बारे में बताते हुए डीआईजी ने कहा की पत्नी ने 20 लाख रुपये जमीन को लेकर ताजुद्दीन से लिए थे. जिसके बाद वह इनपर जमीन देने को लेकर दबाव बना रहा था. वही वकील जमीन को नही देना चाहते थे. इस लिए उन्हे रास्ते से हटाने का काम किया गया.

कई बार हुई हत्या की कोशिश

डीआईजी राजेश ने जानकारी देते हुए बताया कि वकील जितेंद्र सिंह की हत्या का प्रयास 4 से पांच बार हो चुका था. उन्होंने जानकारी दी कि करीब 6 महिने से यह कोशिश चल रही थी लेकिन अपराधियों को इसमें काई सफलता नहीं मिली. इस बार जितेंद्र अपराधियों की गोली का शिकार हो गए.

कई मामलों को अंजामदे चुके है आरोपी

वकील जितेंद्र सिंह की हत्या को अंजाम देने वाले चारो अरापो शार्प शूटर हैं. डीआईजी ने जानकारी देते हुए बताया कि ये सारे आरोपी कई अन्य मामलों में भी आरोपी रह चुके हैं.उन्होंने बताया कि ये सारे आरोपी सरद कोर्ट पटना में हरिवंश राय हत्याकांड, केदार राय हत्या कांड, छोटू हत्याकांड जगनपूरा में ये सारे आरोपी शामिल रहे हैं. साथ ही ये सभी आरोपी जहानाबाद में एक लूट कांड को भी अंजाम दे चुके हैं. पुलिस ने आरोपियों के पास के एक कट्टा, कुछ गोलियां और रुपये बरामद किए हैं.

बताते चले कि पटना के पॉश इलाके में बुधवार पाच दिसंबर की सुबह वकील जितेंद्र कुमार की हत्या कर दी गई. घटना शहर के राजवंशी नगर इलाके में हुई. इस घटना के बाद पटना हाईकोर्ट के सभी वकीलों ने बेली रोड को घंटों के लिए जाम कर दिया था और मामले की जांच की मांग करने लगे. वही इस मामले में आईजी ने एसएसपी मनु महाराज के नेतृत्व में एक एसआईटी का गठन किया. उसी दिन पुलिस ने चार लोगों को इस मामले में मिरफ्तार कर लिया था.

 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*