बिहार के मुस्लिम बच्चों के उत्थान के लिए चरणबद्ध तरीके से काम करेगा फ्लेम : डा. ए ए हई

लाइव सिटीज, पटना : फोरम फाॅर लिटरेसी अवेयरनेस एंड मुस्लिम एजुकेशन (फ्लेम) के अध्यक्ष डा. ए. ए. हई ने कहा कि 21, 22 और 23 दिसम्बर को सम्पन्न फ्लेम तथा एफमी (अमेरिकन फेडरेशन आॅफ मुस्लिम आॅफ इंडियन ओरिजन) के सम्मेलनों में मुस्लिमों की शिक्षा तथा उनके उत्थान के लिए निकलकर आये कुछ प्रासंगिक मुद्दों के कार्यान्वण पर हमलोग चरणबद्ध तरीके से काम करेंगे॰ साथ ही इनके लिए सरकार द्वारा चलाये जा रहे कार्यक्रमों में समन्वयक की भूमिका अदा करेंगे. इन मुद्दों पर तीन दिनों के मंथन के बाद हमलोगों ने यह तय किया है कि मुस्लिमों की शिक्षा और उनके सांस्कृतिक कल्याण के लिए मिशन के रूप में काम करेंगे.

खुर्शीद अहमद, आयोजन समिति एफमी 2018, पटना सचिव ने कहा कि दस कुरान हाफिजों की 12वीं तक मुफ्त शिक्षा कर्नाटक के बेदार शाहीन इंस्टीच्यूट से दिलवायेंगे. सासाराम स्थित शेरशाह सुरी के मकबरे के जीर्णोद्धार, अल्पसंख्यकों के लिए सरकार से टेक्निकल विश्वविद्यालय खोलवाने, बिहार की 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं के टाॅपरों को स्वर्ण, रजत और कांस्य पदक देकर उनको आगे की शिक्षा के लिए उत्साहवर्धन करेंगे तथा मुस्लिमों में साक्षरता की दर बढ़ाने पर भी जोरशोर से काम करेंगे. उन्होंने कहा कि उन्हें पूरा विश्वास है कि अपने मिशन की उपलब्धि हासिल करने में कामयाब होंगे.

पटना में एफमी 2018 का होगा आयोजन, मुस्लिम बच्चों के सामाजिक विकास पर होगी चर्चा

मुस्लिम बच्चे-बच्चियों को अच्छी तालीम देने के लिए फ्लेम द्वारा 21 दिसम्बर को होटल मौर्या में आयोजित कार्यशाला में देश और विदेश के विद्वतजनों ने हिस्सा लिया और अपने विचार व्यक्त किये. एफमी के फाउंडर ट्रस्टी डाॅ. ए. एस. नाकादार ने बच्चों की स्वतंत्र रूप से पाठ्यक्रम चयन की सलाह दी. यूएनएफपीए के मो. नदीम नूर ने प्रजेंटेशन दिखाकर मुस्लिम बच्चे-बच्चियों की शिक्षा पर विचार व्यक्त किया. अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति लेफ्टिनेंट जेनरल जमीर उद्दीन शाह ने मुस्लिम समुदाय से अपने बलबूते स्कूल, काॅलेज खोलने की सलाह दी.

अल्पसंख्यक कल्याण विभाग के प्रधान सचिव अमीर सुबहानी ने अल्पसंख्यक बच्चे-बच्चियों की शिक्षा व उत्थान के लिए बिहार सरकार द्वारा चलायी जा रही योजनाओं की जानकारी दी. फ्लेम के टेक्निकल सेशन में मुस्लिम युवाओं के सशक्तीकरण पर विचार-विमार्श किया गया जिसमें सफी मसहदी, नदीम नूर आदि ने अपने विचार व्यक्त किया. 22 और 23 दिसम्बर को एस. के. मेमोरियल हाॅल में हुए एफमी के 27वें सम्मेलन में बिहार विधान सभा के अध्यक्ष श्री विजय कुमार चैधरी तथा विधान परिषद् के कार्यकारी सभापति हारून रशीद ने मुस्लिमों की शिक्षा पर विस्तार से चर्चा की.

इस दौरान इन्द्रप्रस्थ विश्वविद्यालय, दिल्ली के अफजल वाणी, दिल्ली के प्रो. अपूर्वानन्द झा आदि ने भी अपने संबोधन से बच्चों को उत्साहित किया. इस मौके पर फ्लेम के अध्यक्ष डाॅ. ए. ए. हई ने सासाराम स्थित शेरशाह सुरी के मकबरे के जीर्णोद्धार तथा अल्पसंख्यकों के लिए टेक्निकल विश्वविद्यालय खोलने की मांग की. सम्मेलन में एफमी के अध्यक्ष मो. कुतुबुद्दीन तथा होने वाले एफमी के अध्यक्ष सिराजुद्दीन ठाकुर भी मौजूद थे.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*