NMCH के बाद अब DMCH के मेडिसिन विभाग के अध्यक्ष ने पद से हटाने को लेकर लिखी चिट्ठी, कही ये बात

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: सरकार और जिला प्रशासन डीएमसीएच में बेहतर इलाज की व्यवस्था का दावा भले करते हों लेकिन कोरोना महामारी के दौरान अस्पताल की कुव्यवस्था की पोल यहां के डॉक्टर ही खोल रहे हैं. डीएमसीएच के मेडिसिन विभागाध्यक्ष डॉ. यूसी झा ने डीएमसीएच के प्राचार्य को पत्र लिख कर उन्हें विभागाध्यक्ष के पद से मुक्त करने की मांग कर डाली है. यह पत्र फिलहाल सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है. यह पत्र काफी चर्चा का विषय भी बना हुआ है. दरअसल इसकी वजह अस्पताल के मेडिसिन विभाग में ऑक्सीजन के लिए हाहाकार मचना है. इसको लेकर जिलाधिकारी ने मेडिसिन विभागाध्यक्ष से स्पष्टीकरण मांगा था.

मेडिसिन विभागाध्यक्ष डॉ. यूसी झा ने डीएमसी के प्राचार्य को संबोधित अपने पत्र में कहा है कि मेडिसिन विभाग में ऑक्सीजन के लिए हाहाकार मचा है. 5 मई को उन्होंने ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए अस्पताल अधीक्षक, प्राचार्य, डीएम और विभाग के अधिकारियों को त्राहिमाम संदेश भेजा. क्योंकि ऑक्सीजन की कमी के कारण मेडिसिन विभाग के आइसीयू में भर्ती में बहुत से मरीजों की मौत होने की चिंता उन्हें सता रही थी. उन्होंने लिखा है कि बड़ी मुश्किल से उप विकास आयुक्त की पहल पर ऑक्सीजन की आपूर्ति हुई और मरीजों की जान बच सकी.

डॉ. यूसी झा ने लिखा है कि ऑक्सीजन की आपूर्ति की लगातार समस्या बनी हुई है. इसके लिए वे बार-बार जिम्मेवार अधिकारियों से गुहार लगाते रहते हैं. उन्होंने लिखा है कि मरीजों के इलाज में अस्पताल का हर सीनियर और पीजी डॉक्टर अपनी पूरी क्षमता लगा कर काम कर रहा है. इसके बावजूद उनसे कुव्यवस्था को लेकर डीएम और अन्य अधिकारियों के द्वारा स्पष्टीकरण मांगा जाता 

बता दें कि इससे पहले राजधानी पटना के नालंदा मेडिकल कॉलेज अस्पताल के अधिक्षक डॉक्टर विनोद कुमार सिंह ने 17 अप्रैल को स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव को पत्र लिखा था. इस पत्र में नालंदा मेडिकल कॉलेज अस्पताल के अधिक्षक डॉ. विनोद कुमार सिंह ने खुद को अपने पद से मुक्त करने की मांग की थी. इसकी वजह उन्होंने ऑक्सीजन की कमी बताई थी.