रोस्टर सिस्टम : अखिल भारतीय पिछड़ा वर्ग संघ ने CM नीतीश के स्टैंड का किया समर्थन

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : देश के विश्वविद्यालयों में नियुक्ति के लिए लागू हुए 13 प्वाइंट रोस्टर सिस्टम के खिलाफ आक्रोष चरम पर है. आज मंगलवार 5 मार्च को दलित संगठनों ने इसके लिए बंद भी बुलाया था. इसका बिहार में व्यापक रूप से असर देखने को मिला. कई दलित और पिछड़ा वर्ग के संगठनों ने केंद्र सरकार से इस रोस्टर सिस्टम को वापस लेकर पूर्व का 200 पॉइंट रोस्टर सिस्टम लागू करने की मांग की है.

इसी क्रम में अखिल भारतीय पिछड़ा वर्ग संघ ने भी इस रोस्टर सिस्टम को एससी-एसटी, ओबीसी समाज के आर्थिक, सामाजिक एवं बौद्धिक प्रगति के लिए खतरा बताया है. संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष इंद्र कुमार सिंह चन्दापुरी ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के द्वारा 200 पॉइंट सिस्टम लागू करने की मांग का समर्थन किया है. चन्दापुरी  ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी मांग की है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के स्टैंड पर रचनात्मक कदम उठाएं और केंद्र सरकार द्वारा अध्यादेश लाकर 200 प्वाइंट रोस्टर सिस्टम को बहाल करें.

CM नीतीश कुमार ने किया राम लखन चंदापुरी के कविता संग्रह ‘दीप-प्रभा’ का विमोचन

बता दें कि नीतीश कुमार ने भी केंद्र की मोदी सरकार से 13 प्वाइंट रोस्टर सिस्टम को खत्म करने की मांग की है. इसके लिए उन्होंने केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर से बात भी की है. जदयू के राज्यसभा सांसद आरसीपी सिंह ने इसकी जानकारी देते हुए कहा है कि दो-तीन दिनों में केंद्र सरकार की ओर से अच्छी खबर आ सकती है.

उन्होंने बताया कि नीतीश कुमार ने केंद्रीय मंत्री से बात करते हुए 13 प्वाइंट रोस्टर सिस्टम का विरोध किया है तथा पुराने 200 पॉइंट की व्यवस्था लागू करने की मांग की है. प्रकाश जावड़ेकर ने मुख्यमंत्री को आश्वस्त किया है कि मोदी सरकार जल्द ही इस संबंध में अध्यादेश लाने जा रही है. आरसीपी सिंह ने बताया कि उन लोगों ने राज्यसभा में भी विरोध किया था, जिसके लिए प्रस्ताव भी पारित किया है.

इस रोस्टर सिस्टम को खत्म करने के लिए बिहार से भी मांग तेजी से उठी है. नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव पहले से ही इस प्रक्रिया को लेकर सरकार पर हमला बोलते रहे हैं. उन्होंने इस मुद्दे पर बुलाये गए आज के बंद का समर्थन किया था. यादव ने इस दौरान ट्वीट कर यहां तक कहा कि आरक्षण व्यवस्था में जो हाथ लगाएगा, वह जिंदा जल जाएगा.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*